राजा साहबः बड़े कद की चाह, निकलेंगे प्रदेश यात्रा पर

2018-04-13 08:39:45 363
Sandhya Desh


सन्यासी के चोले में छह माह पूरे कर अब राजा साहब सक्रिय राजनीति में लौटने का ऐलान कर चुके है। इसके लिए वह कोई वह बड़े रोल के तलाश में है। वैसे भी केंद्र में महासचिव रहकर महज एक राज्य का प्रभार संभालने की बजाय राष्ट्रीय राजनीति में अपना बड़ा कद वह चाहते हैं।
परिक्रमा के समापन पर राजा साहब ने चुटकी भी ली थी कि 14 साल महासचिव रह लिया, अब कितना काम करूंगा। अगर जनार्दन द्विवेदी की तर्ज पर राहुल मुझे बदलते हैं तो मुझे कोई दिक्कत नहीं। राहुल बदलाव के लिए कोई भी फैसला करें वह उनके साथ है, पर राहुल को युवाओं और अनुभवी नेताओं के बीच सामंजस्य रखना होगा। इधर मध्य प्रदेश में नवंबर में चुनाव होने हैं, नर्मदा यात्रा के दौरान दिग्विजय राज्य की करीब 114 सीटों में जा चुके हैं। उनके करीबी बताते हैं कि, उनका अगला प्लान पूरे राज्य का दौरा करना है. शायद इसीलिए दिग्विजय कहते हैं कि चुनाव जीतना है तो राज्य के नेताओं को जनता के बीच जाना होगा और उनके मन की बात सुननी होगी।
दिग्विजय के करीबियों के मुताबिक, वो राज्य में किसी को सीएम का चेहरा बनाने के हक में नहीं हैं। आखिर इसी दांव से ही तो वो किंगमेकर बनना चाहते हैं, लेकिन सियासत के माहिर राजा साहब कांग्रेस की संस्कृति से बखूबी माहिर हैं, इसलिए कहते हैं कि राज्य की सियासत हो या केंद्र की या अपना सियासी भविष्य, वो सब सबसे पहले पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से चर्चा करेंगे।

Latest Updates