अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में संभागीय आयुक्त ने अधिकारियों को दिए निर्देश

2018-03-12 21:06:57 94
Sandhya Desh

शासकीय अस्पतालों में मरीजों और अटेण्डरों को पेयजल की दिक्कत न हो 
ग्वालियर।   अस्पतालों में उपचार करा रहे मरीजों और उनके अटेण्डरों को पीने के पानी की दिक्कत नहीं होना चाहिए। अस्पताल में लगे सभी वाटर कूलर चालू रहें, यह सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही अस्पताल परिसर में सभी आवश्यक मूलभूत सुविधायें उपलब्ध रहें। उक्त निर्देश संभागीय आयुक्त  बी एम शर्मा ने सोमवार को अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारियों को दिए। 
बैठक में संभागीय आयुक्तं  बी एम शर्मा ने यह भी निर्देशित किया कि गर्मी के मौसम को देखते हुए अस्पताल में सभी एसी और पंखे भी चालू हालत में रहें। सुधार करने योग्य सभी एसी और पंखों का सुधार समय रहते करा लिया जाए। जयारोग्य चिकित्सालय में लगे एसी जिन्हें कंडम बताया जा रहा है, उनकी जाँच अन्य एजेन्सी से भी कराई जाए। जाँच के उपरांत जो एसी ठीक हो सकते हैं, उन्हें ठीक कराने की कार्रवाई भी कराई जाए। 
संभागीय आयुक्त बी एम शर्मा ने अनुकम्पा प्रकरणों की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए हैं कि सभी संभागीय अधिकारी अपने – अपने विभाग में लंबित अनुकम्पा प्रकरणों का तत्परता से निराकरण करें। अनुकम्पा प्रकरणों के निराकरण में अनावश्यक विलम्ब ठीक नहीं है। इस प्रकार के प्रकरण पाए गए तो संबंधित विभागीय अधिकारी के खिलाफ दण्डात्मक कार्रवाई की जायेगी। 
खनिज विभाग की समीक्षा के दौरान बताया गया कि प्रदेश सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के परिपालन में कुल 86 खदानों में से 50 प्रतिशत खदानों का आवंटन संबंधित ग्राम पंचायतों को कर दिया गया है। संभागीय आयुक्त बी एम शर्मा ने खनिज विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि अवैध उत्खनन और परिवहन की सघन जाँच कराई जाए। इसके साथ ही उड़नदस्ते को प्रभावी बनाया जाए। उन्होंने सभी विभागीय अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया है कि विभाग में लम्बित प्रकरणों के संबंध में सम्पूर्ण जानकारी के साथ ही बैठक में उपस्थित रहा करें। इसके साथ ही प्रकरणों के निराकरण में निर्धारित की गई समय – सीमा का विशेष ध्यान दिया जाए। 
बिना अनुमति के मुख्यालय न छोड़ें अधिकारी 
संभागीय आयुक्त  बी एम शर्मा ने संभागीय स्तर के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि कोई भी अधिकारी बिना अनुमति के मुख्यालय से बाहर न जाए। प्रदेश स्तर पर आयोजित होने वाली बैठकों में शामिल होने के लिये अनुमति प्राप्त करना जरूरी है। इसके साथ ही शासकीय अवकाशों में भी मुख्यालय से बाहर जाने की अनुमति लेना आवश्यक है। 
संभागीय आयुक्त  बी एम शर्मा ने इस संबंध में एक विभागीय आदेश भी जारी कर सभी अधिकारियों को कहा है कि बिना अनुमति के मुख्यालय छोड़ने की प्रवृत्ति अत्यंत आपत्तिजनक एवं अस्वीकार होकर संबंधित के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई के साथ-साथ उक्त दिवस का आधार स्पष्ट न होने पर अकार्य दिवस माना जाकर वेतन काटने की कार्रवाई भी की जायेगी। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को स्पष्ट रूप से निर्देशित किया है कि कोई भी अधिकारी बिना अनुमति के मुख्यालय से बाहर न जाए। 
सभी शासकीय भवनों में वाटर हार्वेस्टिंग करायें 
संभागीय आयुक्त  बी एम शर्मा ने यह भी निर्देशित किया है कि प्रदेश सरकार के जलाभिषेक अभियान के तहत सभी शासकीय भवनों में वर्षा का पानी रोकने हेतु वाटर हार्वेस्टिंग का कार्य कराया जाए। उन्होंने ग्वालियर संभाग के सभी जिला कलेक्टरों को इस संबंध में पत्र लिखकर निर्देशित किया है कि अपने – अपने जिले में सभी शासकीय भवनों में वाटर हार्वेस्टिंग का कार्य करायें। 
संभागीय आयुक्त  बी एम शर्मा ने पत्र में लिखा है कि कलेक्टर अपने – अपने जिलों में वाटर हार्वेस्टिंग के लिये विस्तृत कार्ययोजना तैयार करें। इस कार्ययोजना के तहत जिला मुख्यालयों के साथ ही सम्पूर्ण जिले के शासकीय भवनों को चिन्हित कर वाटर हार्वेस्टिंग का कार्य कराया जाए। वाटर हार्वेस्टिंग का कार्य सभी विभागीय अधिकारी अपने – अपने विभागीय मद से कराना सुनिश्चित करें। संभागीय आयुक्त श्री बी एम शर्मा ने कलेक्टरों से अपेक्षा की है कि वाटर हार्वेस्टिंग के लिये जिले में किए जा रहे प्रयासों से संभागीय आयुक्त कार्यालय को भी अवगत करायें।

Latest Updates