Recent Posts

ताका-झांकी

नंद घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की...

2018-01-27 18:12:34 186
Sandhya Desh


ग्वालियर। जिस घर में नन्हे बालक की किलकारियां गूंजने लगती हैं वह घर खुशियों से भर जाता है और स्वर्ग के समान हो जाता है। और फिर जिस घर में स्वयं प्रभु श्री कृष्ण का अवतरण हुआ हो उस घर तो क्या पूरे नगर में खुशियों की बहार आ जाती है। ऐसा ही आनंद भगवान के द्वारा जब नंद के घर लड्डू गोपाल ने जन्म लिया तो पूरी नंद नगर निवासी आनंद में नाचने और गाने लगे। समस्त नंद नगर वासियों ने मिलकर बधाई गीत गाये और नंद बाबा और माता यशोदा को बधाई दी।
ददरौआ धाम में चल रही श्रीमद भागवत संगीतमयी कथा के आगे प्रसंग में ब्रहम्चारी प्रेमानंद महाराज ने बताया कि जब भगवान का पृथ्वी पर एक नन्हे बालक के रूप में अवतरण हुआ तो समस्त ब्रहमांड खुशियों से झूमने लगा था उसी प्रकार आज यहां ये श्रोता भक्ति में सरावोर हो कर भक्ति रूपी गंगा में डुबकी लगा रहे हैं। यहां उपस्थित श्रोता भावविभोर हो कर नंद घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की कहते हुए भगवान के जयकारे लगा कर अपना भगवान के प्रति अपना स्नेह प्रकट कर रहे थे। 
कथा स्थल पर चल रहे 165 कुण्डीय यज्ञ में मैग्नम स्टील के सीएमडी आईसी जिन्दल भी विशेष रूप  से शामिल होने के लिये पंहुचे और पूरे वैदिक परिधान के साथ यज्ञ में लगातार दो दिनों से आध्यात्मि ज्ञान भी प्राप्त कर रहे हैं। इसके साथ ही श्री जिंदल यज्ञ स्थल पर अपनी सेवाएंे भी दे रहे हैं। और यज्ञ स्थल पर मौजूद सभी संत महात्माओं और गुरूजनों का आशीर्वाद ले रहे हैं। सबसे पहले श्री जिंदल ने यज्ञ स्थल पर मौजूद गुरू महाराज का शाॅल श्रीफल देकर सम्मान किया। वहीं शनिवार के दिन म.प्र.शासन में उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया जी ने यज्ञशाला पंहुचकर गुरूश्री से आशीर्वाद प्राप्त कर अध्यात्म ज्ञान भी लिया। 
यहां चल रहे यज्ञ में प्रतिदिन 5 लाख महामृत्युंजय मंत्र, 11 हजार गायत्री मंत्र, 108 आवृत्ति श्रीसूक्त, 108 पुरूष शूक्त तथा लिंग पुराण का अनुष्ठान हो रहा है। यज्ञ में शामिल यजमान व ब्राहम्ण भारतीय परिधान धोती, अंगवस्त्र व साड़ी आदि का उपयोग आवश्यक है। यज्ञ में वेद मंत्रों और गाय के शुद्ध देशी घी, आॅर्गनिक तिल आदि यज्ञ सामग्री साथ दी जा रही आहुतियों से शहर का वातावरण शुद्ध व स्वच्छ हो रहा हैं। इसके साथ ही इस यज्ञ में शामिल यजमान व उनके परिजनों को काल सर्प दोष और अकाल मृत्यु के दोष से भी मुक्ति दिलवाने के लिये विशेष मंत्रोच्चारण किया जा रहा है।
ग्वालियर के बाहर से आये हुए लोगों के आवास-भोजन आदि का प्रबंध किया गया। यह संपूर्ण आयोजन महामण्डलेश्वर रामदास महाराज, महामण्डलेश्वर स्वामी ईश्वरदास महाराज, स्वामी अच्युतानंद महाराज, स्वामी पुष्करानंद महाराज, मंशापूर्ण हनुमान मंदिर के पुजारी पं.गोपाल दूबेजी, गौरवजी महाराज की उपस्थिति में हो रहा है। यज्ञ की अध्यक्षता स्वामी पुष्करानंद महाराज द्वारा की जा रही है। जिसकी सभी व्यवस्थाएं लाल टिपारा गौ शाला के वर्तमान व्यवस्थापक स्वामी अच्युतानंद महाराज की देखरेख में की जा रही हैं।

Latest Updates