पैसों के लेन देन पर पुलिस कार्रवाई से डरे व्यापारी

2018-01-20 10:35:26 265
Sandhya Desh


ग्वालियर। ग्वालियर महानगर में व्यापारी अब दस-पांच के सिक्कों को लेकर पुलिस द्वारा की जा रही कार्रवाई से अब डरने लगे हैं। क्योंकि पुलिस कर्मी बिना वजह पांच और दस रूपये के सिक्कों को लेकर अपने दलालों को भेजकर व्यापारियों को इकटठी थैली देते हैं और व्यापारी द्वारा कुछ पैसे और कुछ नगद रूपए की कहने पर मात्र दस मिनट में पुलिस पहुंच कर व्यापारी को थाने में बैठाए रखती है और उसके बाद बडी मुश्किल से लेन देन कर छोडती है। 
ऐसा ही मामला हाल ही में कोतवाली थाना क्षेत्र में घटा बताया जाता है। इस मामले में दो युवक लगभग पांच छह सौ रूपए दस और पांच के सिक्के लेकर व्यापारी के पास पहुंचे और कुछ सामान मांगा। व्यापारी द्वारा सामान देने तथा पूरे सिक्कों में से कुछ सिक्के लेने और कुछ कागज के नोट लेने की बात युवकों से की। इस पर युवकों ने व्यापारी को पुलिस की धमकी दी। इतना ही नहीं घंटों तक किसी भी स्थान पर वारदात बताने के बाद भी नहीं पहुंचने वाली पुलिस मात्र दस मिनट में व्यापारी के यहां पहुंच गई। उसके बाद व्यापारी को अपने साथ थाना प्रभारी बुला रहे हैं कहकर ले कोतवाली थाने ले आई। कोतवाली पहुंचने पर पता चला कि थाना प्रभारी गायब हैं। वह लगभग तीन घंटे बाद कहीं से आकर प्रकट हुए और वह भी कई लोगों की सिफारिशों के बाद एहसान जताते हुए कार्रवाई नहीं करने के नाम पर लेन देन कर बडी मुष्किल से व्यापारी को छोडा। अब प्रश्न उठता है कि मात्र दस मिनट में क्या १८१ पर कोई रिपोर्ट लिखी जाती है। इतना ही नहीं पुलिस कर्मी १८१ पर शिकायत की बात कहकर व्यापारी को उठा ले गये। वहीं १८१ की शिकायत के बाद कितनी देर में पुलिस पहुंचती है। यह सभी जानते हैं। लेकिन इस मामले में १८१ पर शिकायत की बात कहने वाले युवक भी कोतवाली थाने नहीं गये और बीच में से ही गायब हो गये। इससे लगता है कि पुलिस जानबूझकर व्यापारी को निशाना बना उससे पैसे ऐंठना चाह रही थी। कारण कुछ भी हो लेकिन पुलिस ने किया यही। पुलिस ने व्यापारी को लगातार पैसों को लेकर धमकाया। इससे स्पष्ट है कि पुलिस व्यापारियों को अब पैसों के लेन देन के मामले में परेशान करने लगी है। 
पुलिस अधीक्षक , अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक , नगर पुलिस अधीक्षक को चाहिए  कि इस मामले की जांच होना चाहिए और संबंधित दोषी कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करना चाहिए। पुलिस की इस कार्रवाई से कोतवाली थाना क्षेत्र के व्यापारी बेहद डरे हुए हैं। वह अब अपना काम धंधा बंद करने की सोच रहे हैं। व्यापारियों का कहना था कि उन्होंने युवकों द्वारा दिए गये पैसों को लेने से मना नहीं किया हां व्यापारियों ने कहा कि यदि पुलिस पूरे पैसे बैंक में जमा करा दे तो वह पूरे पैसे लेने को तैयार है। नहीं तो कुछ पैसे और कुछ रूपए की बात व्यापारी भी कह रहे हैं। इतना ही नहीं यदि १८१ पर शिकायत की तो क्या वह युवक जिन्होंने शिकायत की उनके बयान पुलिस ने लिये या उन्हें यों ही जाने दिया। यदि युवकों को यों ही जाने दिया तो व्यापारी को क्यों थाने में बैठाया और उसे लेन देन कर क्यूं छोडा। यह सभी प्रश्र अभी गर्त में हैं। फिलहाल पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को चाहिए कि वह इस प्रकार के कृत्य करने वाले और सीधे साधे व्यापारियों को परेशान करने वाले कर्मियों के खिलाफ भी कडी कार्रवाई करे अन्यथा व्यापारी भी मिलकर कोई आंदोलन ना छेड दें। इसका इंतजार रहेगा। 

Latest Updates