कलाबोध कार्यशाला में विद्यार्थियों ने किया अभ्यास

2018-01-12 17:32:38 95
Sandhya Desh


ग्वालियर। राजा मानसिंह तोमर संगीत एवं कला विश्वविद्यालय ग्वािलयर एवं संस्कृति संचालनालय भोपाल के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित राष्ट्रीय कलाबोध कार्यशाला के तृतीय दिन ख्याल गायन, धु्रपद गायन, तबला, सितार, गिटार, कथक, भरतनाट्यम, चित्रकला, मूर्तिकला एवं नाटय रंगमंच के विद्यार्थियों ने देश के वरिष्ठ कला गुरूओं के मार्गदर्शन में अभ्यास किया। 
संस्कृति संचालनालय मध्यप्रदेश शासन भोपाल के सहयोग से संगीत विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय कलाबोध कार्यशाला जारी है। कार्यशाला का समापन 13 जनवरी को सायं 5 बजे तानसेन सभागार में किया जायेगा।  इस कार्यशाला का संयोजन प्रो. रंजना टोणपे एवं सहसंयोजन डाॅ. हिमांशु द्विवेदी द्वारा किया जा रहा है। कार्यशाला के अंतर्गत कक्षाओं के पश्चात् मूर्तिकला के वरिष्ठ कलाकार अद्वैतचरण गणनायक का ललित कलाओं पर व्याख्यान हुआ। आपने अपने व्याख्यान में ललित कलाओं के विभिन्न आयामों पर चर्चा की। व्याख्यान के पश्चात् संगीत सभा का आयोजन किया गया। आज की संगीत सभा में वाराणसी के पं. ऋत्विक सान्याल का ध्रुपद गायन एवं भोपाल के पं. किरण देशपाण्डे का एकल तबला वादन का कार्यक्रम हुआ।
पं. ऋत्विक सान्याल ने अपने कार्यक्रम कर प्रारंभ राग जोग से किया। आपने राग जोग में डागर शैली में चारताल मंे निबद्ध प्यारी तेरे नैनन मीन कर लीने बंदिश प्रस्तुत की। इसके पश्चात् ताल तीव्रा में निबद्ध नाद भेद सो न्यारो बंदिश प्रस्तुत की।  स्वामी विवेकानंद जी के जन्म दिवस पर विशेषकर राग शंकरा में ताल सूलताल में रचित बंदिश हर हर भूतनाथ पशुपति योगेश्वर प्रस्तुत की। आपने अपने कार्यक्रम का समापन राग भूपाली में ताल सूलताल में निबद्ध स्वरचित बंदिश सुर लय भेद को बखान गुणीजन सब प्रस्तुत की। आपके साथ पखावज संगति जयवंत गायकवाड ने की।
वरिष्ठ तबला वादक पं. किरण देशपाण्डे ने अपने एकल तबला वादन तीनताल में पारम्परिक पेशकार से किया। इसके पश्चात् आपने तीनताल में कायदे, टुकडे, मुखडे, परन, चक्रदार, रेला आदि प्रस्तुत किया। तबला वादन में बोलों का स्पष्टता एवं तैयारी के साथ वादन आपके वादन की विशेषता रही। आपके साथ लहरा संगति अब्दुल हमीद खान ने की। आज के कार्यक्रम में विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. डाॅ. लवली शर्मा, विदुषि सुमित्रा गुहा, पं. हरीष गंगानी, विदुषी सरोज घोष, विपिन कुमार, प्रभारी कुलसचिव अजय शर्मा, समस्त अधिकारी, शिक्षकगण, छात्र-छात्राएं एवं संगीत रसिक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन विकास विपट ने किया। शनिवार 13 जनवरी को कार्यशाला के समापन अवसर पर संगीत सभा में प्रख्यात बांसुरी वादक पं. चेतन जोशी का बांसुरी वादन का कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।  

         

Latest Updates