BREAKING!
  • भाजपा के जयचंद ...............?
  • अप्रवासी भारतीय साहित्य प्रेमी सम्मान डॉ. परीन सोमानी को
  • पाकिस्तान ने सीमा पर भारी हथियारों संग तैनात किए एसएसजी कमांडो, भारतीय सेना अलर्ट
  • कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव: बीजेपी ने कांग्रेस-जेडीएस के 13 'बागी' व‍िधायकों को द‍िया ट‍िकट
  • राफेल पर सुप्रीम कोर्ट में अर्जी खारिज, अब राहुल गांधी ने उठाई जेपीसी जांच की मांग
  • राफेल डील एससी फैसला, मोदी सरकार के भरोसे पर मुहर, माफी मांगें सवाल उठाने वाले:शाह
  • धन्यवाद पुलिस प्रशासनः मोबाइल व नेट सेवा बंद नहीं कराई
  • ग्वालियर में सिंधिया की बढ़ती सक्रियता के मायने
  • पुलिस ने कारोबारी से अड़ेबाजी करते पांच फर्जी पत्रकार पकड़े
  • गरीब बच्चों ने सांड की आंख फिल्म को मॉल में देखा

Sandhyadesh

आज की खबर

योगा खूबसूरत जीवन को जीने का रास्ता दिखाता है: शुभांगी भसीन

19-Oct-19 184
Sandhyadesh

ग्वालियर। योगा मनुष्य को खूबसूरत जीवन जीने का रास्ता दिखाता है ।यह बात आज रेडियो चस्का के लाइव टॉक शो चस्का मेहमान में उपस्थित होकर श्रीमति शुभांगी भसीन ऑन एयर चर्चा के दौरान कही। इस अवसर पर रेडियो चस्का की डायरेक्टर श्रीमती प्रीति गोयल व श्रीमती नेहा गोयल ने पुष्प हार द्वारा उनका रेडियो चस्का में भव्य स्वागत किया।
श्रीमती भसीन ने बताया,- योग हमारे शरीर के साथ-साथ हमारे मन को भी स्वस्थ रखता है। योग से आनंद की अनुभूति होती है जैसे एक तरफ सुख और दूसरी तरफ दुःख होता है जबकि आनंद सुख से भी ऊपर होता है। जब पहली बार योग करते है तब समझ में आता है आनंद क्या होता है। उस आनंद की अनुभूति ना भोग में और ना ही अन्य किसी क्षणिक सुखों में है। साथ ही उन्होंने महिला सशक्तिकरण के  विषय पर  श्रोताओं को अवगत कराया और कहा,-भारत एक प्रसिद्ध देश है जो प्राचीन समय से ही अपनी सभ्यता, संस्कृति, सांस्कृतिक विरासत, परंपरा, धर्म और भौगोलिक विशेषताओं के लिये जाना जाता है। भारत में महिलाओं को पहली प्राथमिकता दी जाती है हालाँकि समाज और परिवार में उनके साथ बुरा व्यवहार भी किया जाता है। वो घरों की चारदीवारी तक ही सीमित रहती है और उनको सिर्फ पारिवारिक जिम्मेदारीयों के लिये समझा जाता है। उन्हे अपने अधिकारों और विकास से बिल्कुल अनभिज्ञ रखा जाता है।
श्रीमती भसीन ने कहा,-अपनी निजी स्वतंत्रता और स्वयं के फैसले लेने के लिये महिलाओं को अधिकार देना ही महिला सशक्तिकरण है। परिवार और समाज की हदों को पीछे छोड़ने के द्वारा फैसले, अधिकार, विचार, दिमाग आदि सभी पहलुओं से महिलाओं को अधिकार देना उन्हें स्वतंत्र बनाने के लिये है। समाज में सभी क्षेत्रों में पुरुष और महिला दोनों को लिये बराबरी में लाना होगा । देश, समाज और परिवार के उज्जवल भविष्य के लिये महिला सशक्तिकरण बेहद जरुरी है। महिलाओं को स्वच्छ और उपयुक्त पर्यावरण की जरुरत है जिससे कि वो हर क्षेत्र में अपना खुद का फैसला ले सकें चाहे वो स्वयं, देश, परिवार या समाज किसी के लिये भी हो। देश को पूरी तरह से विकसित बनाने तथा विकास के लक्ष्य को पाने के लिये एक जरुरी हथियार के रुप में है महिला सशक्तिकरण। आरजे चाहत द्वारा पूछे गए एक सवाल में श्रीमती भसीन ने जवाब दिया की,- महिला सशक्तिकरण के द्वारा ये संभव है कि एक मजबूत अर्थव्यवस्था के लिए महिला भी पुरुष के साथ भागीदारी करें। 
मनुष्य, आर्थिक या पर्यावरण से संबंधित कोई भी छोटी या बड़ी समस्या का बेहतर उपाय महिला सशक्तिकरण है। पिछले कुछ वर्षों में हमें महिला सशक्तिकरण का फायदा मिल रहा है। महिलाएँ अपने स्वास्थ्य, शिक्षा, नौकरी, तथा परिवार, देश और समाज के प्रति जिम्मेदारी को लेकर ज्यादा सचेत रहती है। वो हर क्षेत्र में प्रमुखता से भाग लेती है और अपनी रुचि प्रदर्शित करती है। अंतत: कई वर्षों के संघर्ष के बाद सही राह पर चलने के लिये उन्हें उनका अधिकार मिल रहा है।
टॉक शो के दौरान लाइव कॉल्स में उनसे कई सवाल पूछे गए जिसमें श्रीमती भसीन ने ग्वालियर चंबल संभाग के श्रोताओं को योग साथ ही महिला सशक्तिकरण की विशेषताओं के बारे में अवगत कराया। उन्होंने महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि यदि वह किसी परेशानी में है और सहायता की आवश्यकता है तो वह पुलिस हेल्पलाइन नंबर 1090 पर कॉल करके तुरंत ही सहायता ले सकती हैं साथ ही वे महिला शक्ति केंद्र पर भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं। साथ ही श्रीमती भसीन ने बताया की सरकार द्वारा कई योजनाएं महिलाओं के लिए चलाई जा रही हैं जैसे उज्जवला योजना,महिला हेल्पलाइन योजना, बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं योजना आदि।
योग की महत्वपूर्णता बताते हुए उन्होंने कहा कि,- योग शब्द के दो अर्थ बताये गये हैं और दोनों ही अर्थ जीवन के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं। पहला अर्थ है- जोड़ और दूसरा अर्थ है- समाधि (ध्यान)। जब तक हम अपने शरीर को योग कला से नहीं जोड़ते, ध्यान तक जाना असंभव हैं। ऊपर हमने जिस आनंद की चर्चा की उसकी सीढ़ी योग के दूसरे अर्थ ध्यान से शुरू होती है।
ध्यान योग का अतिमहत्वपूर्ण भाग है। ध्यान के माध्यम से शरीर और मस्तिष्क का संगम होता है। ध्यान यानि मेडिटेशन का डंका हमारे देश से भी ज्यादा विदेशों में गूंज रहा है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि  गर्भावस्‍था के दौरान नियमित योगा करने से शरीर स्वस्थ रहता है। शरीर से थकान और तनाव दूर होता है जो माँ और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। गर्भावस्‍था में होने वाली कोई भी समस्या जैसे- पीठ दर्द, कमर दर्द, पैरों में खिचाव, नींद ना आना, चिड़चिड़ापन, अपच, श्वास संबंधित सभी समस्यायों से मुक्ति मिल जाती है।
फूलबाग स्थित रेडियो स्टेशन रेडियो चस्का 95 एफएम पर हुए लाइव टॉक शो में आमंत्रित की गई श्रीमती शुभांगी भसीन। लाइव टॉक शो में चस्का 95 एफएम की डायरेक्टर्स श्रीमती प्रीति गोयल व श्रीमती नेहा गोयल भी उपस्थित रहे साथ ही श्रीमती भसीन का माल्यार्पण करके अभिनंदन किया। चस्का 95fm की टीम की ओर से जिसमें मौजूद रही स्टेशन हेड विजयलक्ष्मी ,आर जे अलीशा, आर जे चाहत, आर जे वाणी इंसिया जैन ,पूजा श्रीवास्तव द्वारा भी माल्यार्पण किया गया।

2019-11-14aaj