BREAKING!
  • भाजपा के जयचंद ...............?
  • अप्रवासी भारतीय साहित्य प्रेमी सम्मान डॉ. परीन सोमानी को
  • पाकिस्तान ने सीमा पर भारी हथियारों संग तैनात किए एसएसजी कमांडो, भारतीय सेना अलर्ट
  • कर्नाटक विधानसभा उपचुनाव: बीजेपी ने कांग्रेस-जेडीएस के 13 'बागी' व‍िधायकों को द‍िया ट‍िकट
  • राफेल पर सुप्रीम कोर्ट में अर्जी खारिज, अब राहुल गांधी ने उठाई जेपीसी जांच की मांग
  • राफेल डील एससी फैसला, मोदी सरकार के भरोसे पर मुहर, माफी मांगें सवाल उठाने वाले:शाह
  • धन्यवाद पुलिस प्रशासनः मोबाइल व नेट सेवा बंद नहीं कराई
  • ग्वालियर में सिंधिया की बढ़ती सक्रियता के मायने
  • पुलिस ने कारोबारी से अड़ेबाजी करते पांच फर्जी पत्रकार पकड़े
  • गरीब बच्चों ने सांड की आंख फिल्म को मॉल में देखा

Sandhyadesh

आज की खबर

22 अक्‍टूबर को बैंकों में हड़ताल

19-Oct-19 34
Sandhyadesh

नई दिल्ली। बीते दिनों वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 10 बैंकों के विलय का ऐलान किया था. इस विलय के खिलाफ दो बैंक यूनियन 22 अक्टूबर को एक दिवसीय हड़ताल पर जाने वाले हैं. इस हड़ताल की वजह से अधिकतर सरकारी बैंकों के कामकाज प्रभावित होने की आशंका है।
इस बीच, बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने ग्राहकों को अलर्ट किया है. बैंक ने कहा है कि वह हड़ताल के दिन अपनी तमाम शाखाओं और कार्यालयों में कामकाज सामान्य करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रहा है।
इसके साथ ही बैंक ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर हड़ताल होती है तो बैंक के शाखाओंध्कार्यालयों का कामकाज पूरी तरह प्रभावित हो सकता है. हालांकि भारतीय स्टेट बैंक को उम्‍मीद है कि इस हड़ताल का ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।
एसबीआई के मुताबिक बैंक के बहुत कम कर्मचारी ऐसे हैं, जो हड़ताल करने वाले यूनियन का हिस्सा हैं, इसलिए इस हड़ताल का बैंक के कामकाज पर बेहद कम असर पड़ेगा।
एसबीआई ने यह भी कहा कि प्रस्तावित हड़ताल से कितने का नुकसान होगा उसका अभी आकलन नहीं किया जा सकता है. इसी तरह बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र को भी लगाता है कि यह हड़ताल बैंकिंग स्‍तर पर प्रभावित नहीं करेगा।
बता दें कि अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ और भारतीय बैंक कर्मचारी परिसंघ ने 22 अक्‍टूबर को हड़ताल बुलाई है. इसे भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक) ने भी समर्थन दिया है. ये हड़ताल सरकार के 10 बैंकों के विलय के विरोध के लिए बुलाई गई है।

2019-11-14aaj