BREAKING!
  • तीसरी लाइन बनने से सुविधाएं और बढेगी:माथुर
  • श्रीमंत को नुकसान हुआ उनके सुपर श्रीमंत से
  • नंद के आनंद भयो , जय कन्हैया लाल की , 50 करोड के जेवरातों से सजे राधाकृष्ण
  • पूर्व महापौर स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर को शहरवासियों ने किया नमन
  • ट्रेन में महिला से लूटी चेन,बदमाश गिरफ्तार
  • मुख्यमंत्री कमल नाथ ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी
  • छत्तीसगढ़ राज्यपाल से मिले प्रभात
  • कांग्रेस नेता सिंघवी ने मोदी की तारीफ
  • गोपाल मंदिर में 50 करोड़ के गहनों से हुआ राधा-कृष्ण का श्रृंगार
  • द लिटिल वल्र्ड स्कूल में कान्हा ने फोडी मटकी

Sandhyadesh

ताका-झांकी

मिलावट खोरों की संपत्ति भी अब राजसात होगी: कलेक्टर

13-Aug-19 531
Sandhyadesh


स्मार्ट सिटी में तेजी लाने की जरूरत, पेट्रोल पंप भी अब टारगेट पर 
विनय कुमार अग्रवाल 
ग्वालियर। अब जिले में मिलावट खोरों की खैर नहीं, अब मिलावट खोरों पर एनएसए की कार्रवाई के साथ-साथ उनकी संपत्ति भी राजसात की जायेगी। जिले में मिलावट खोरों के खिलाफ अभियान तेज कर दिया गया है। अब पेट्रोल पंप भी निशाने पर हैं वहां भी कम पेट्रोल व डीजल दिये जाने की शिकायतें मिल रही हैं। 
आज सत्ता सुधार संपादक से विशेष चर्चा में जिला कलेक्टर अनुराग चौधरी ने खुलकर विभिन्न मुददों पर चर्चा की। उन्होंने चर्चा में स्वीकार किया कि स्मार्ट सिटी परियोजना के कामों में तेजी लाने की जरूरत है, और इसमें कार्य टारगेट आधार पर पूरे किये जायें। जिला कलेक्टर अनुराग चौधरी ने आज चर्चा के लिये अवकाश के दिन समय निकाला और कलेक्टर कार्यालय में बैठे। वह खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट से बेहद चिंतित दिखे । उन्होंने कहा कि मिलावट खोर समाज में जहर परोस रहे हैं। इनके खिलाफ कडी कार्रवाई अब जरूरी है। 
मिलावट खोरों के बारे में कलेक्टर का कहना था कि  जिला प्रशासन की नजर अब उन मिलावटियों की संपत्ति पर भी है जिसे उन्होंने अवैध रूप से मिलावट का खाद्यान्न बेचकर एकत्रित किया है। इतना ही नहीं प्रशासन ऐसी संपत्तियों को राजसात करने की योजना भी बना रहा है। चाहे मिलावटखोर कितना भी पहुंच वाला क्यों ना हो। 
चौधरी ने कहा कि जिला प्रशासन अब प्राथमिकता के आधार पर मिलावट करने वालों के विरूद्ध कार्रवाई करता रहेगा। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति पर एनएसए की कार्रवाई प्रशासन ने की है। २०० मिलावट खोरों पर प्रभावी कार्रवाई जल्द होगी। जिन मिलावटियों की तीन बार सेंपल फेल होंगे उन पर जुर्माना के साथ ही संपत्ति भी राजसात की जायेगी। वहीं यह भी देखा जायेगा कि उसने अवैध रूप से मिलावट कर कितना पैसा हासिल किया है। मिलावट से कैंसर, बच्चों में विभिन्न प्रकार के रोग, हारमोनल चेंजेस हो रहे हैं वहीं नपुंसकता जैसे रोग भी हो रहे हैं। मिलावट करने वाले मसाले वालों के विरूद्ध भी कडी कार्रवाई होगी। इतना ही नहीं जिला प्रशासन ने एक राज्य स्तरीय प्रयोगशाला का निर्माण भी ग्वालियर में कराये जाने के लिए विभाग को जमीन का आवंटन कर दिया है। 
स्मार्ट सिटी के तहत अब सबसे पहले उन योजनाओं को लागू कर उन्हें पूरा किया जायेगा जिसे प्रशासन ने पहले हाथ में लिया है। जिला प्रशासन अब एक एक कर योजनाओं को पूरा करेगी। वहीं स्मार्ट सिटी के तहत बस नहीं चल पाने में आ रही बाधाओं को दूर किया जायेगा साथ ही पुलिस प्रशासन से कहा गया है कि स्मार्ट सिटी के तहत चलने वाली बसों का सफल संचालन हो इसके लिए वह कडी कार्रवाई करें। यदि कोई भी बस यूनियन या बस ऑपरेटर इसमें बाधा उत्पन्न करें तो सख्ती से मेरे नाम से कार्रवाई करें और स्मार्ट सिटी की बसों का संचालन सफल करायें। 
विद्यादान योजना के तहत जिला कलेक्टर अनुराग चौधरी  ने महानगर के गणमान्य नागरिकों से अपील की है कि वह अपना कीमत वक्त में से कुछ समय निकाल कर पास के शासकीय स्कूल में जितना भी समय दे सकते हैं दें। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि शासकीय स्कूलों के बच्चे भी निजी स्कूलों की तरह आगे बढ़ें। जिला कलेक्टर ने कहा कि वह स्वयं आईआईटी कानपुर से इंजीनियर हैं और उन्होंने स्वयं ही मुरार का उत्कृष्ट विद्यालय को विद्यादान के लिये चुना है। वह वहां जाकर भौतिकी की कक्षा लेते हैं। साथ ही उनकी पत्नी भी इंजीनियर हैं और वह भी एक स्कूल को चुनकर वहां पर पढाने जायेंगी। कलेक्टर ने सभी गणमान्य नागरिकों बुजुर्ग सेवा निवृत अधिकारियों कर्मचारियों से अपील की कि वह सप्ताह में माह में जितना समय दे सके वह पास के स्कूल में बच्चों को समय देकर आगे बढाने में मदद करें। उन्होंने कहा कि शासकीय स्कूल के बच्चों में स्किलड की कमी नहीं है लेकिन यदि उन्हें थोडा सहारा और मिल जायेगा तो वह निजी स्कूलों जैसे बच्चों की तरह बहुत आगे जा सकेंगे। 
पेट्रोल पंपों से आने वाली शिकायतों पर जिला कलेक्टर ने कहा कि पेट्रोल पंप वालों द्वारा कम तौलने वाले भी प्रशासन के निशाने पर हैं उनपर भी मिलावट खोरों के बाद कडी प्रभावी कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि दस प्रकार के इश्यू उन्होंने तय किये हैं उन पर एक एक कर कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर चौधरी ने बताया कि जिला प्रशासन ने अवैध मेरिज हाउस पर भी कडी कार्रवाई की है। उन्होंने कहा कि जब विवाह के लिए लोग मेरिज गार्डन तय कर लेते हैं उसके बाद कडी कार्रवाई करना ठीक नहीं लगता प्रशासन विवाह तय करने के पहले ही कार्रवाई करेगा। और निरंतर जारी रखेगा। 
जिले की सडक़ों के खस्ता हाल होने के बारे में उन्होंने कहा कि इसके लिए संबंधित अधिकारी की रिस्पांसबिलिटी तय की जायेगी कि उसने क्या देखा । उन्होंने कहा कि उन्होंने नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन से कहा है कि संबंधित अधिकारियों के खिलाफ भी कडी कार्रवाई करें। उसकी एकाउंटबिलिटी फिक्स करें। ताकि सडक़ें गुणवत्तायुक्त हो सकें। 
स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में जिला कलेक्टर अनुराग चौधरी से पूछे प्रश्र के उत्तर में बताया कि जिले में सभी लोगों को स्वास्थ्य योजनाओं का बेहतर लाभ मिले। उन्हें दवाएं व्यवस्थित रूप से मिलती रहें इसके पूरे प्रयास किये जाएंगे। साथ ही जिला अस्पतालों का भी समय समय पर निरीक्षण कर वहां स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने का प्रयास जारी है। इसी के साथ सभी अस्पतालों में चिकित्सक मरीजों को समय पर देखें उनका परीक्षण करें यह भी प्रशासन के प्रयास हैं। इसी के साथ दूर दराज के मरीजों को भी बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें ,ऐसे भी प्रयास किये जा रहे हैं। चौधरी ने बताया कि इसी के साथ जेएएच में बन रहे सौ बिस्तरों का सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पीटल का भी लक्ष्य निर्धारित किया गया है। काम को अमली जामा पहनाया जाये इसका प्रयास हो। चौधरी ने बताया कि एक हजार बिस्तर वाले अस्पताल को भी प्रशासन अपने लक्ष्य में शामिल कर रहा है। उसके लिये जमीन आवंटित हो गई है। जब सरकार ऐसे मामलों में सेंसटिव दिखेगी तो सब ठीक रहेगा। 
जिला कलेक्टर ने कहा कि स्मार्ट सिटी में प्राथमिकता तय करना पडेगी उसके बाद काम को अंजाम तक पहुंचाना पडेगा तभी जनता का अपेक्षित सहयोग प्रशासन को मिल सकेगा। अभी जिस प्रकार से स्मार्ट सिटी का बिखरा हुआ काम चल रहा है उसे एक  -एक कर हाथ में लेकर उसे पूरा करना पडेगा। जिला कलेक्टर ने कहा कि सावरकर सरोवर कटोराताल पर फब्बारे लगाने का काम पूरा करना है। उसे पूरा करके आगे के काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जब महानगर में ९० प्रतिशत लोग संतुष्ट होंगे उसके बाद वह प्रशासन का पूरा साथ देंगे। वहीं दस प्रतिशत लोगों को कभी संतुष्ट किया ही नहीं जा सकता है। 
सत्ता सुधार से साभार 

Popular Posts