BREAKING!
  • रोशनी टीम हॉफ मैराथन में शामिल होने रवाना
  • योगा खूबसूरत जीवन को जीने का रास्ता दिखाता है: शुभांगी भसीन
  • स्काउट गाइड के बेसिक प्रशिक्षण में हाइक आयोजित की गई
  • हत्या के आरोपी को भागने में मदद करने वाले भाई को पकड़ा
  • गौवंश को दफनाने वाले 06 बदमाशों को पुलिस ने पकडा
  • सिंधिया 21 अक्टूबर को ग्वालियर आऐंगे
  • आईटीएम में इबारत-11 की महफिल 20 को
  • 22 अक्‍टूबर को बैंकों में हड़ताल
  • हिंदुओं का नारीवाद
  • अतिक्रमण हटाने पहुंचे प्रशासन के सामने विधायक मुन्नालाल अडे

Sandhyadesh

आज की खबर

पहला राफेल लेने फ्रांस जा रहे हैं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, अतिरिक्त खरीद की संभावना भी तलाशेंगे

07-Oct-19 39
Sandhyadesh

 नई दिल्ली । रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज पैरिस जा रहे हैं। वहां 8 अक्टूबर को वायु सेना दिवस पर भारत को पहला राफेल युद्धक विमान सौंपा जाएगा। रक्षा मंत्री राफेल हैंड ओवर सिलेब्रेशन के दौरान शस्त्र पूजा भी करेंगे क्योंकि संयोग से कल ही दशहरा भी है। समारोह दक्षिणी फ्रांस के बंदरगाह वाले शहर बॉगदू (Bordeaux) में आयोजित किया जाएगा। रक्षा मंत्री इस दो सीटों वाले युद्धक विमान में उड़ान भी भरेंगे। उनके साथ तीन और राफेल फाइटर्स उड़ाने भरेंगे। पहला राफेल अगले वर्ष मई महीने तक भारत आ जाएगा। अधिकारी ने कहा, 'रक्षा मंत्री राफेल का शस्त्र पूजा करेंगे और थोड़ी दूर तक विमान उड़ाएंगे भी।' 

अतिरिक्त राफेल खरीदने पर होगी चर्चा
अधिकारियों ने बताया कि राजनाथ दो दिनों के फ्रांस दौरे पर 36 के अतिरिक्त राफेल विमान खरीदने की संभावना भी तलाशेंगे। अभी भारत के ऑर्डर पर फ्रांस की दसॉ एविएशन 36 राफेल विमान तैयार कर रही है। फ्रांस तो भारत को और ज्यादा राफेल ऑफर कर सकता है, लेकिन भारतीय वायु सेना चीफ आरकेएस भदौरिया ने पिछले हफ्ते कहा था कि और ज्यादा राफेल खरीदने का प्लान फिलहाल नहीं है। 


फ्रांस में रक्षा मंत्री के ये कार्यक्रम 
रक्षा मंत्री वहां मंगलवार सुबह राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से भी मुलाकात करेंगे। उनका फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली के साथ डिफेंस डायलॉग का भी कार्यक्रम है।एक अधिकारी ने कहा कि राजनाथ फ्रांस के रक्षा उद्योग के सीईओज को भी संबोधित करेंगे। संभव है कि वह सीईओज से 'मेक इन इंडिया' प्रोग्राम और अगले वर्ष लखनऊ में आयोजित होने जा रहे डिफेंस एक्सपो में हिस्सा लेने का आग्रह करेंगे। 


पाकिस्तान में आतंकी कैंपों को भारत से ही ध्वस्त करेगा राफेल 
भारत ने सितंबर 2016 में फ्रांस की सरकार के साथ 36 विमानों के सौदे पर दस्तखत किया था। दोनों देशों के बीच यह डील 7.87 अरब यूरो (619 अरब रुपये) की हुई। राफेल में भारत की जरूरतों के मुताबिक साजो-सामान लगाए जा रहे हैं। इनमें डिस्प्ले लगे हेलमेट, रडार वॉर्निग रिसिवर्स और इन्फ्रारेड सर्च एवं ट्रैकिंग सिस्टम्स प्रमुख हैं। 


कहां-कहां तैनात होंगे राफेल 
राफेल में लगा स्काल्प स्टैंड-ऑफ मिसाइल में पाकिस्तान स्थित किसी भी आतंकवादी कैंप को भारत के एयरस्पेस से ही निशाना बनाने की क्षमता है। ये मिसाइलें 300 किमी से भी ज्यादा दूरी तक मार कर सकती हैं। राफेल को अंबाला एयर फोर्स स्टेशन पर तैनात किया जाएगा जो भारत की रणनीतिक पश्चिमी सीमा के पास है। कुछ राफेल पश्चिम बंगाल के हासिमारा एयर बेस पर रखे जाएंगे। NBT

2019-10-20aaj