BREAKING!
  • प्रजापिता ब्रह्मा बाबा की 143 वीं जयंती को आध्यात्मिक सशक्तिकरण दिवस के रूप में मनाया गया
  • मक्का उत्पादन में छिन्दवाड़ा को मिलेगी अंतर्राष्ट्रीय पहचान, कमल नाथ ने किया कॉर्न फेस्टिवल का शुभारंभ
  • ब्राह्मण महासभा ने की जन चेतना यात्रा का शुभारंभ
  • पंजाबी सेवा समिति ने किया रक्तदान
  • सिर्फ जीत भावना नहीं खेल भावना के साथ खेलें-कुलदीप सिंह
  • युवाओं के लिये विद्यालयीन शिक्षा के साथ प्रेक्टिकल ज्ञान भी जरूरी : कमल नाथ
  • जीएसटी में पंजीयन के लिये करदाताओं के वार्षिक टर्नओव्हर की सीमा 40 लाख हुई
  • सावरकर के बहाने मायावती का कांग्रेस पर हमला, कहा- शिवसेना पर स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस
  • झारखंड चुनाव: कांग्रेस पर बरसे पीएम मोदी, बोले- नागरिकता कानून का फैसला हजार फीसदी सच्चा
  • पुलिस के प्रति संवेदनशील और अपराधियों के लिये सख्त सरकार

Sandhyadesh

आज की खबर

एक साथ मनाया गया सावन का आखिरी सोमवार और बकरीद

12-Aug-19 202
Sandhyadesh

ग्वालियर। सावन का आखिर सोमवार और ईद का पर्व एक साथ होने की वहज से सुबह मंदिरों में जलाभिषेक के लिए शिव भक्त उमड़े तो नमाज अदा करने के लिए नमाजियों की भीड़ भी ईदगाह पर पहुंची। सावन के आखिरी सोमवार के साथ अमन और चैन के बीच ईद-उल-अजहा की नमाज भी अदा की गई। जहां दोनों समुदाय के लोगों ने सुख-समृद्धि और अमन-चैन मांगा। एक तरफ मंदिरों में जहां बम भोले की गूंज सुनाई दी, तो मस्जिदों में सफेद पोशाक में नमाजी नमाज अदा करते दिखे।
सावन का आखिरी सोमवार होने के साथ ही मंदिरों में सुबह तड़के ही कतारें लगना शुरू हो गई थीं। शिव के दर्शन के लिए दिन खिलने के साथ कतारें भी लंबी होती गईं। लोगों ने अपने भोले बाबा को मनाने के लिए विशेष पूजा-अर्चना की और शिवलिंग पर बेलपत्र, धतूरा चढ़ाया। वहीं कई जगह दुग्धाभिषेक भी किया गया। इसके अलावा सुबह सात बजे से नमाजी भी ईदगाह में इक-ा होना शुरू हो गए। आठ बजते ही शांति व्यवस्था के बीच ईद-उल-अजहा की नमाज अदा की गई, इसके बाद लोगों ने एक दूसरे को इसकी बधाई भी दी।
दोनों पर्व एक साथ पडऩे के कारण प्रशासन ने भी सुरक्षा व्यवस्था में कोई ढील नहीं बरती। चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान कड़ी निगरानी करते दिखाई दिए। मंदिरों और ईदगाह तक जाने वाले रास्तों पर विशेष सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराई गई और ट्रैफिक को भी डायवर्ट किया गया है।

2019-12-15aaj