BREAKING!
  • तीसरी लाइन बनने से सुविधाएं और बढेगी:माथुर
  • श्रीमंत को नुकसान हुआ उनके सुपर श्रीमंत से
  • नंद के आनंद भयो , जय कन्हैया लाल की , 50 करोड के जेवरातों से सजे राधाकृष्ण
  • पूर्व महापौर स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर को शहरवासियों ने किया नमन
  • ट्रेन में महिला से लूटी चेन,बदमाश गिरफ्तार
  • मुख्यमंत्री कमल नाथ ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी
  • छत्तीसगढ़ राज्यपाल से मिले प्रभात
  • कांग्रेस नेता सिंघवी ने मोदी की तारीफ
  • गोपाल मंदिर में 50 करोड़ के गहनों से हुआ राधा-कृष्ण का श्रृंगार
  • द लिटिल वल्र्ड स्कूल में कान्हा ने फोडी मटकी

Sandhyadesh

ताका-झांकी

एक साथ मनाया गया सावन का आखिरी सोमवार और बकरीद

12-Aug-19 145
Sandhyadesh

ग्वालियर। सावन का आखिर सोमवार और ईद का पर्व एक साथ होने की वहज से सुबह मंदिरों में जलाभिषेक के लिए शिव भक्त उमड़े तो नमाज अदा करने के लिए नमाजियों की भीड़ भी ईदगाह पर पहुंची। सावन के आखिरी सोमवार के साथ अमन और चैन के बीच ईद-उल-अजहा की नमाज भी अदा की गई। जहां दोनों समुदाय के लोगों ने सुख-समृद्धि और अमन-चैन मांगा। एक तरफ मंदिरों में जहां बम भोले की गूंज सुनाई दी, तो मस्जिदों में सफेद पोशाक में नमाजी नमाज अदा करते दिखे।
सावन का आखिरी सोमवार होने के साथ ही मंदिरों में सुबह तड़के ही कतारें लगना शुरू हो गई थीं। शिव के दर्शन के लिए दिन खिलने के साथ कतारें भी लंबी होती गईं। लोगों ने अपने भोले बाबा को मनाने के लिए विशेष पूजा-अर्चना की और शिवलिंग पर बेलपत्र, धतूरा चढ़ाया। वहीं कई जगह दुग्धाभिषेक भी किया गया। इसके अलावा सुबह सात बजे से नमाजी भी ईदगाह में इक-ा होना शुरू हो गए। आठ बजते ही शांति व्यवस्था के बीच ईद-उल-अजहा की नमाज अदा की गई, इसके बाद लोगों ने एक दूसरे को इसकी बधाई भी दी।
दोनों पर्व एक साथ पडऩे के कारण प्रशासन ने भी सुरक्षा व्यवस्था में कोई ढील नहीं बरती। चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान कड़ी निगरानी करते दिखाई दिए। मंदिरों और ईदगाह तक जाने वाले रास्तों पर विशेष सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराई गई और ट्रैफिक को भी डायवर्ट किया गया है।

Popular Posts