BREAKING!
  • प्रजापिता ब्रह्मा बाबा की 143 वीं जयंती को आध्यात्मिक सशक्तिकरण दिवस के रूप में मनाया गया
  • मक्का उत्पादन में छिन्दवाड़ा को मिलेगी अंतर्राष्ट्रीय पहचान, कमल नाथ ने किया कॉर्न फेस्टिवल का शुभारंभ
  • ब्राह्मण महासभा ने की जन चेतना यात्रा का शुभारंभ
  • पंजाबी सेवा समिति ने किया रक्तदान
  • सिर्फ जीत भावना नहीं खेल भावना के साथ खेलें-कुलदीप सिंह
  • युवाओं के लिये विद्यालयीन शिक्षा के साथ प्रेक्टिकल ज्ञान भी जरूरी : कमल नाथ
  • जीएसटी में पंजीयन के लिये करदाताओं के वार्षिक टर्नओव्हर की सीमा 40 लाख हुई
  • सावरकर के बहाने मायावती का कांग्रेस पर हमला, कहा- शिवसेना पर स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस
  • झारखंड चुनाव: कांग्रेस पर बरसे पीएम मोदी, बोले- नागरिकता कानून का फैसला हजार फीसदी सच्चा
  • पुलिस के प्रति संवेदनशील और अपराधियों के लिये सख्त सरकार

Sandhyadesh

आज की खबर

सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों की संख्या बढ़ाने को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

11-Aug-19 119
Sandhyadesh

नई दिल्ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भारत के मुख्य न्यायाधीश के अलावा उच्चतम न्यायालय में न्यायाधीशों की स्वीकृत शक्ति को 30 से बढ़ाकर 33 करने वाले बिल पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। सर्वोच्च न्यायालय (न्यायाधीशों की संख्या) संशोधन विधेयक को इस सप्ताह की शुरुआत में ही संसद द्वारा पारित किया गया था। इस कानून के लागू होने के बाद सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम सरकार को शीर्ष अदालत में नियुक्ति के लिए तीन नामों का सुझाव देगा।
सुप्रीम कोर्ट में अभी कोई भी पद खाली नहीं है। वर्तमान में मुख्य न्यायाधीश सहित 31 जज सुप्रीम कोर्ट में सेवाएं दे रहे हैं। इस कानून लागू होने के बाद CJI के अलावा सुप्रीम कोर्ट की स्वीकृत संख्या 33 हो जाएगी। शीर्ष अदालत में बढ़ते मामलों को देखते हुए न्यायाधीशों की संख्या को तीन या 10 प्रतिशत बढ़ाने का कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जब कोर्ट में 60,000 से अधिक मामले लंबित हैं।

2019-12-15aaj