BREAKING!
  • तीसरी लाइन बनने से सुविधाएं और बढेगी:माथुर
  • श्रीमंत को नुकसान हुआ उनके सुपर श्रीमंत से
  • नंद के आनंद भयो , जय कन्हैया लाल की , 50 करोड के जेवरातों से सजे राधाकृष्ण
  • पूर्व महापौर स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर को शहरवासियों ने किया नमन
  • ट्रेन में महिला से लूटी चेन,बदमाश गिरफ्तार
  • मुख्यमंत्री कमल नाथ ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी
  • छत्तीसगढ़ राज्यपाल से मिले प्रभात
  • कांग्रेस नेता सिंघवी ने मोदी की तारीफ
  • गोपाल मंदिर में 50 करोड़ के गहनों से हुआ राधा-कृष्ण का श्रृंगार
  • द लिटिल वल्र्ड स्कूल में कान्हा ने फोडी मटकी

Sandhyadesh

ताका-झांकी

सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीशों की संख्या बढ़ाने को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

11-Aug-19 34
Sandhyadesh

नई दिल्ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भारत के मुख्य न्यायाधीश के अलावा उच्चतम न्यायालय में न्यायाधीशों की स्वीकृत शक्ति को 30 से बढ़ाकर 33 करने वाले बिल पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। सर्वोच्च न्यायालय (न्यायाधीशों की संख्या) संशोधन विधेयक को इस सप्ताह की शुरुआत में ही संसद द्वारा पारित किया गया था। इस कानून के लागू होने के बाद सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम सरकार को शीर्ष अदालत में नियुक्ति के लिए तीन नामों का सुझाव देगा।
सुप्रीम कोर्ट में अभी कोई भी पद खाली नहीं है। वर्तमान में मुख्य न्यायाधीश सहित 31 जज सुप्रीम कोर्ट में सेवाएं दे रहे हैं। इस कानून लागू होने के बाद CJI के अलावा सुप्रीम कोर्ट की स्वीकृत संख्या 33 हो जाएगी। शीर्ष अदालत में बढ़ते मामलों को देखते हुए न्यायाधीशों की संख्या को तीन या 10 प्रतिशत बढ़ाने का कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जब कोर्ट में 60,000 से अधिक मामले लंबित हैं।

Popular Posts