BREAKING!
  • रोशनी टीम हॉफ मैराथन में शामिल होने रवाना
  • योगा खूबसूरत जीवन को जीने का रास्ता दिखाता है: शुभांगी भसीन
  • स्काउट गाइड के बेसिक प्रशिक्षण में हाइक आयोजित की गई
  • हत्या के आरोपी को भागने में मदद करने वाले भाई को पकड़ा
  • गौवंश को दफनाने वाले 06 बदमाशों को पुलिस ने पकडा
  • सिंधिया 21 अक्टूबर को ग्वालियर आऐंगे
  • आईटीएम में इबारत-11 की महफिल 20 को
  • 22 अक्‍टूबर को बैंकों में हड़ताल
  • हिंदुओं का नारीवाद
  • अतिक्रमण हटाने पहुंचे प्रशासन के सामने विधायक मुन्नालाल अडे

Sandhyadesh

आज की खबर

14 वीं अंतर सीमांत कमांडो स्पर्धा शुरू

17-Sep-19 182
Sandhyadesh


टेकनपुर ग्वालियर। सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर में आज से  अंतर सीमांत 14 वीं कमांडो स्पर्धा शुरू हुई। स्पर्धा का शुभारंभ अकादमी के संयुक्त निदेशक पीके दुबे के मुख्य आतिथय में हुआ। इस स्पर्धा में बीएसएफ की दस फ्रंटियरों की 10 टीमें जिनमें 380 कमांडोस हैं भाग ले रहे हैं। 
इस अवसर पर संयुक्त निदेशक दुबे ने कहा कि इस स्पर्धा में कमांडोस की शारीरिक क्षमता एवं मानसिक क्षमता, निशानेबाजी में दक्षता , दबाब और तनाव सहने की क्षमता तथा मुश्किल हालातों में टीम भावना के साथ लक्ष्य की प्राप्ति कैसे हासिल हो को परखा जायेगा। साथ ही टीमों की विभिन्न कमांडो विद्यायों जैसे आब्स्टैकल, क्रासिंग, रिफलैक्स शूटिंग, ऑपरेशन की तैयारी से संबंधित ब्रीफिंग और टोटी टोटी टीम में आतंकवादियों और नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन की कार्रवाई को परखा जायेगा। स्पर्धा में कमांडोस अपने विवेक , प्रशिक्षण और कौशल का प्रदर्शन करते हुए प्राप्त सूचनाओं के आधार पर रास्ते में आने वाली बाधाओं को पार करते हुए दुश्मन पर धावा बोलकर उसे नेस्तनाबूत करते हैं। अकादमी में इससे पहले 13 बार इस प्रकार की स्पर्धा का आयोजन किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि आज पूरा विश्व आतंकवाद से ग्रसित हैं। उनमें से भारत भी एक ऐसा देश है जो आतंकवाद के साथ नक्सलवाद की समस्या से भी जूझ रहा है। ऐसे में सुरक्षा बलों को शारीरिक और मानसिक रूप से दृढ होना अत्यंत आवश्यक है। इस स्पर्धा का उददेश्य भी बल के बाकी कार्मिकों को प्रेरित करना है। देश की प्रथम रक्षा पंक्ति होने के कारण बीएसएफ की  तैनाती देश के सबसे कठिनतम एवं चुनौतीपूर्ण इलाकों जैसे पाकिस्तान, बांग्लादेश के साथ अंतर्राष्ट्रीय सीमा , एलओसी, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों स्पेशल ऑपरेशनस युद्ध की स्थिति में सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर दुश्मन से लडने की है। इसके लिये बल के  कर्मियों को पूर्ण रूप से दक्ष होना आवश्यक होता है। यह स्पर्धा बल के कार्मिकों की दक्षता परखने और सुधार करने का भी एक माध्यम है। 
स्पर्धा में सभी प्रतियोगियों को खेल भावना का प्रदर्शन करने की शपथ दिलाई। इस मौके पर आईजी रामअवतार, सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मी मौजूद थे। 

2019-10-20aaj