BREAKING!
  • सूने घर से नगदी और सामान चोरी
  • फौजी का बैग उड़ा ले गया बस कंडक्टर
  • राम मंदिर निर्माण में सकारात्मक भूमिका निभाएगा निर्मोही अखाड़ा
  • विश्व हिन्दू परिषद की प्रांत बैठक शिवपुरी में आयोजित
  • बेहतर शोध के लिएमैथमेटिकल स्किल को सुधारने पर करें फोकस-प्रो. कुशेंद्र मिश्रा
  • आईटीएम ग्लोबल स्कूल में पाॅक्सो एक्ट पर वर्कशाॅप आयोजित
  • रायपुर की श्रिया ने किया परीक्षा पे चर्चा का संचालन
  • अयोध्या में राम मंदिर निर्माण प्रबंधन में हमें मुख्य भूमिका दी जाए: निर्मोही अखाड़ा
  • गंदगी देख भड़के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, फावड़ा लेकर खुद समेटने लगे कचरा
  • निर्भया केस : दोषी पवन की याचिका सुप्रीम कोर्ट में भी खारिज

Sandhyadesh

आज की खबर

बिखरी भाजपा में विपक्ष की धार भी नहीं रही

14-Sep-19 564
Sandhyadesh

15 साल तक सत्ता की मलाई खाने के बाद सूबे में विपक्ष में लौटी भाजपा के कार्यकर्ताओं के पास आंदोलन में जुटने का समय नहीं है। लगता है उन्हें अभी भी सत्ता में होने का अहसास सा होता है। परंतु असल बात तो यह है कि वह विपक्ष में है।
यहां बता दें कि गत रोज प्रदेश भाजपा ने घंटानाद आंदोलन किया था। उसी के तहत ग्वालियर में भी शहर भाजपा ने इसे अमलीजामा पहनाया, लेकिन वह सिर्फ खानापूर्ति तक ही सीमित रहा। हालांकि ग्वालियर में आंदोलन की अगुवाई पूर्व मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने की थी। परंतु उसके बाबजूद नेता कार्यकर्ता आंदोलन में नहीं जुटे। सबसे बड़ा दल होने का दंभ भरने वाली भाजपा ग्वालियर में बमुश्किल कुछ ही कार्यकर्ता जुटा पाई। जबकि कुछ ने आंदोलन से दूरी बना ली। वहीं कई अपनी व्यस्तताओं के कारण आंदोलन में शामिल नहीं हुये। ग्वालियर में आंदोलन में ना के बराबर ही कार्यकर्ता जुटे। आंदोलन भी भीड़ न होने के कारण आधे घंटे में सिमट गया। कार्यकर्ता इस बात से भी आहत थे कि जब पार्टी सूबे में सत्ता में थी तो उन्हें पूछा नहीं गया और अब विपक्ष में है तो फोन लगाकर आंदोलन में भाग लेने की नेता विनती कर रहे है। 
वैसे भी ग्वालियर में पार्टी का जो हाल है वह किसी से छिपा नहीं। खुद भाजपा जिला प्रमुख के माथे पर एक नेता का होने का तमगा लगा है। इस कारण अलग अलग गुटीय नेताओं के कार्यकर्ताओं ने भी आंदोलन से दूरी बनाकर रखी। एक वजह आंदोलन से कार्यकर्ताओं की दूरी इसलिए भी रही कि उन्हें सत्ता में रहने की आदत सी पड़ गई थी और आंदोलन में होने वाली मेहनत से वह बचना चाहते थे, क्योंकि 15 साल की मलाई उनके शरीर पर दिखाई देती है और वह इससे बचकर ही रहे कि इस भीषण गर्मी में एसी रूमों से बाहर निकलकर पसीना कौन बहाये। 
कुल मिलाकर भाजपाईयों को विपक्ष में रहने की आदत ही छूट गई है, इसलिए कांग्रेस सरकार बनने के 9 माह बाद कोई विपक्षी आंदोलन प्रदेश में 15 साल सत्ता में रहने वाली सबसे बड़ी पार्टी ने रखा और वह भी बिना कार्यकर्ताओं की भीड़ के खानापूर्ति तक ही सीमित रह गया। 
दरबारी लाल.....

2020-01-20aaj