BREAKING!
  • संभाग आयुक्त ओझा ने देखी पार्किंग व्यवस्था
  • ग्वालियर स्मार्ट सिटी ने जीता आईटी एक्सिलेंस अवॉर्ड, सीईओ महीप तेजस्वी सम्मानित
  • टेक्रोलाजी का फायदा तभी जब आम आदमी को उसका लाभ मिले: धोत्रे
  • बीएसएनएल को संकट से उबारने रिवाइवल पैकेज बनाया है : केन्द्रीय राज्यमंत्री संजय धोतरे
  • राज्य सरकार बाढ़ पीडितों के मामले में राजधर्म का पालन करे: विजयवर्गीय
  • घासमंडी से ढाई लाख की स्मैक सहित एक आरोपी दबोचा
  • बीएसएफ अकादमी टेकनपुर में बावा दिवस बनाया
  • निगम अपने परियोजना अधिकारी को तत्काल मूल विभाग में भेजें
  • बीमा चिकित्सालय में बिजली संकट से आपरेशन नहीं रूकेंगे
  • राष्ट्रीय स्तर पर मेले को पहचान दिलाने पर काम करेंगे नये पदाधिकारी

Sandhyadesh

आज की खबर

कांग्रेस शासन में राज्य अब बदहाली से बेहतरी की ओर : दुर्गेश शर्मा

11-Sep-19 122
Sandhyadesh

ग्वालियर। मध्यप्रदेश में अब कांग्रेस बदहाली से बेहतरी की ओर जा रही है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री का पदभार संम्हालने के बाद पिछले आठ महीनों में जहां अपने वचन पत्र में किये गये अधिकतम वादों को पूरा किया वहीं राज्य में विभिन्न विभागों में एक सौ निर्णय भी लिये हैं। 
उक्त जानकारी आज पत्रकारों से चर्चा में मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता दुर्गेश शर्मा ने कही। इस अवसर पर उन्होने एक सौ निर्णयों की एक किताब का भी विमोचन किया। उन्होंने बताया कि राज्य की कमलनाथ सरकार ने जो बडे फैसले किये हैं उनमें भोपाल-इंदौर छह लाइन एक्सप्रेस वे, उसके किनारे से इन्टरनेशनल एयरपोर्ट , इंडस्ट्रिल टाउनशिप के अलावा सैटेलाइट टाउन भी विकसित किया जायेगा। इसी के साथ पिछडे वर्ग का आरक्षण बढाकर २७ प्रतिशत किया है। आर्थिक रूप से कमजोरों को १० प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान, कन्या विवाह की राशि २८ से बढाकर ५१  हजार रूपये करना, राइट टू वाटर जैसी बुनियादी और ठोस कदम उठाकर जनता को लाभ करने की सोच है, वहीं नदी पुर्नजीवन कार्यक्रम के तहत प्रदेश के ३६ जिलों की चालीस नदियों का चयन कर, २१ लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सघन रूप से जल संरक्षण व संवर्धन का काम शुरू किया गया है। इसी के साथ तेंदुपत्ता बोरियों की संग्रहण दर दो हजार से बढाकर ढाई हजार करने, महिला उत्पीडन की शिकायतें दर्ज करने के लिए एकीकृत महिला हेल्प लाइन १८१ स्वीकृत की, नई रेत खनन नीति के द्वारा राजस्व में वृद्धि के साथ ही पंचायतों को इससे प्राप्त होने वाली राशि में वृद्धि का प्रावधान किया। उन्होंने बताया कि देश में मंदी का दौर है, पेट्रोल डीजल की कीमतें आसमान छू रही है। जीडीपी धराशायी हो चुकी है। मैन्यूफैक्चरिंग , बैंकिंग , रियल स्टेट , ऑटोमोबाइल सेक्टर पूरी तरह टूट गये है। सार्वजनिक सेक्टर खस्ताहाल है। बिजली की दरें बढने और कम कीमत में दिल्ली को बेचने को लेकर पूछे जाने पर  उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार ने १५० यूनिट तक दरें कम की गई है। प्रदेश अध्यक्ष की लडाई के बारे में पूछे जाने पर दुर्गेश शर्मा ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ स्वयं ने दो पदों में से एक पद छोडने की इच्छा व्यक्त की थी। अब मामला हाईकमान के पास है जो भी निर्णय होगा शिरोधार्य होगा। मंत्री उमंग सिंघार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का झगडा सार्वजनिक होने के बारे में पूछे जाने पर प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि इस मामले को अनुशासन समिति के पास भेज दिया गया है। जो निर्णय होगा सामने आयेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की सोच के अनुसाल मिलावटियों के विरूद्ध कार्रवाई जारी रहेगी इसमें कोई भी व्यक्ति कितना भी पावरफूल हो उसे बख्शा नहीं जायेगा। वहीं संभाग स्तर पर भी जांच के लिए लैब तैयार की जा रही है। इससे कार्रवाई में और तेजी आएगी। पत्रकार वार्ता में पूर्व विधायक रामवरन सिंह गुर्जर, जिलाध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह जिला प्रवक्ता धर्मेन्द्र शर्मा भी मौजूद थे।