BREAKING!
  • तीसरी लाइन बनने से सुविधाएं और बढेगी:माथुर
  • श्रीमंत को नुकसान हुआ उनके सुपर श्रीमंत से
  • नंद के आनंद भयो , जय कन्हैया लाल की , 50 करोड के जेवरातों से सजे राधाकृष्ण
  • पूर्व महापौर स्व. नारायण कृष्ण शेजवलकर को शहरवासियों ने किया नमन
  • ट्रेन में महिला से लूटी चेन,बदमाश गिरफ्तार
  • मुख्यमंत्री कमल नाथ ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी
  • छत्तीसगढ़ राज्यपाल से मिले प्रभात
  • कांग्रेस नेता सिंघवी ने मोदी की तारीफ
  • गोपाल मंदिर में 50 करोड़ के गहनों से हुआ राधा-कृष्ण का श्रृंगार
  • द लिटिल वल्र्ड स्कूल में कान्हा ने फोडी मटकी

Sandhyadesh

ताका-झांकी

बिना जुर्म के बेटे ने काटी 13 साल काटी सजा

07-Aug-19 40
Sandhyadesh

ग्वालियर। मानसिक रूप से अस्वस्थ सुरेश ने अपनी मां की हत्या का कलंक ना सिर्फ झेला बल्कि 13 साल जेल में सजा भी काटी. सरकार की ओर से उसकी आपराधिक पुनर्विचार याचिका में सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने पाया कि आरोपी मानसिक रूप से अस्वस्थ है.

निचली अदालत ने इस तथ्य को देखा ही नहीं और ना ही पुलिस ने अपनी विवेचना में इसका उल्लेख किया है. अब हाईकोर्ट ने भोपाल जेल में बंद सुरेश को निर्दोष बताते हुए सरकार को अपने खर्चे पर इलाज करवाने का आदेश दिया है.पुलिस विवेचना और निचली अदालत के फैसले में कई ऐसे बिंदु उठाए गए जिन पर गौर नहीं किया गया था. सुरेश मानसिक अस्वथ्य था इसलिए उसे हाई कोर्ट के आदेश पर विधिक सहायता के जरिए महिला वकील  (अंकिता माथुर) उपलब्ध कराई गई.

महिला अधिवक्ता का कहना था कि मानसिक रूप से बीमार रहने वाला सुरेश अपने भाई बहन पर बोझ नहीं बन जाए इसलिए उस पर हत्या का मामला दर्ज कराया गया। हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने महिला अधिवक्ता के तर्कों से सहमत होते हुए सुरेश को निर्दोष बताया और उसके पूरे इलाज की जिम्मेवारी सरकार को दी है. इलाज के बाद स्वस्थ होने पर सुरेश को रिहा करने के आदेश दिए हैं

Popular Posts