BREAKING!
  • वर्तमान परिवेश में व्यापारियों को संगठित होने की आवश्यकता है: भूपेन्द्र जैन
  • आज रात होगी खगोलीय घटना, मंगल को ढंकेगा चांद,
  • राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक बुधवार को
  • महिला के गले से मंगलसूत्र खींचकर भागे बाइक सवार बदमाश
  • 1 अप्रैल से बीएस-4 वाहनों के रजिस्ट्रेशन होंगे बंद
  • कटोराताल में रंगीन फव्वारों के लिए प्रजेंटेंशन हुए
  • मालवा में उत्सव, कमलनाथ पहुंचेंगे
  • समधी के शादी और बना दिया सरकारी प्रोग्राम
  • टेलीफिल्म हेल्प द पूअर स्टुडेंटस मे दिखाई देगी रंगयाना मौहल्ले की बस्तियाँ
  • पडाव में नया हाइवे.....?

Sandhyadesh

आज की खबर

निर्भया केस : दोषी पवन की याचिका सुप्रीम कोर्ट में भी खारिज

20-Jan-20 32
Sandhyadesh

नई दिल्ली. निचली अदालत, दिल्ली हाईकोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी निर्भया के दुष्कर्मी पवन की उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उसने वारदात के वक्त खुद के नाबालिग होने का दावा किया था। सुप्रीम कोर्ट की विशेष बेंच ने सोमवार को याचिका पर सुनवाई की। तीन सदस्यीय बेंच ने पवन के वकील एपी सिंह से सवाल किया कि पुनर्विचार याचिका में भी आपने यही मामला उठाया था, अब इसमें नई जानकारी क्या है और क्या यह विचार करने योग्य है? एपी सिंह ने दलील दी कि पवन की उम्र संबंधी दस्तावेजों की जानकारी दिल्ली पुलिस ने जानबूझकर छिपाई। हाईकोर्ट ने भी गलत ढंग से पवन की याचिका खारिज की और तथ्यों को नजरंदाज किया।
कोर्ट का सवाल, दोषी के वकील का जवाब
सुप्रीम कोर्ट ने एपी सिंह से सवाल किया- पुनर्विचार याचिका में भी दोषी ने यही बात उठाई थी। अब आपके पास इसमें क्या नई जानकारी है। क्या यह अब विचार करने योग्य है?
एपी सिंह ने कहा- इस मामले में बहुत बड़ी साजिश है। दिल्ली पुलिस ने जानबूझकर पवन की उम्र संबंधी दस्तावेजों की जानकारी छिपाई है। वारदात के वक्त पवन की उम्र 17 साल, 1 महीने और 20 दिन थी। ऐसे में वारदात में उसकी भूमिका नाबालिग के तौर पर देखी जाए। दोषी पवन ने दिल्ली हाईकोर्ट में भी वारदात के वक्त खुद के नाबालिग होने का दावा किया था। लेकिन, हाईकोर्ट ने तथ्यों को नजरंदाज कर दिया।

2020-02-19aaj