BREAKING!
  • संभाग आयुक्त ओझा ने देखी पार्किंग व्यवस्था
  • ग्वालियर स्मार्ट सिटी ने जीता आईटी एक्सिलेंस अवॉर्ड, सीईओ महीप तेजस्वी सम्मानित
  • टेक्रोलाजी का फायदा तभी जब आम आदमी को उसका लाभ मिले: धोत्रे
  • बीएसएनएल को संकट से उबारने रिवाइवल पैकेज बनाया है : केन्द्रीय राज्यमंत्री संजय धोतरे
  • राज्य सरकार बाढ़ पीडितों के मामले में राजधर्म का पालन करे: विजयवर्गीय
  • घासमंडी से ढाई लाख की स्मैक सहित एक आरोपी दबोचा
  • बीएसएफ अकादमी टेकनपुर में बावा दिवस बनाया
  • निगम अपने परियोजना अधिकारी को तत्काल मूल विभाग में भेजें
  • बीमा चिकित्सालय में बिजली संकट से आपरेशन नहीं रूकेंगे
  • राष्ट्रीय स्तर पर मेले को पहचान दिलाने पर काम करेंगे नये पदाधिकारी

Sandhyadesh

आज की खबर

श्रीमंत को नुकसान हुआ उनके सुपर श्रीमंत से

23-Aug-19 1816
Sandhyadesh

अपने श्रीमंत ने हार के कारणों की समीक्षा करी हो या नहीं करी हो, लेकिन यह तय है कि वह अपने नवरत्नों की मनमानी , आतंक व घमंड की वजह से लोकसभा का चुनाव हारे। श्रीमंत वैसे लाख गुना बेहतर हैं, वह लीडरशिप से भरपूर हैं और लोगों से उनका आत्मिक रिश्ता है। 
लेकिन श्रीमंत को यह भी देखना होगा कि उनके नवरत्न क्षेत्र की जनता ,कार्यकर्ताओं और पत्रकारों के साथ कैसा व्यवहार करते हैं। यही व्यवहार ही इस बार श्रीमंत की मतदाताओं से दूरी करा गया। 
लेकिन इस सबमें सबसे बडा कारण सुपर श्रीमंत पाराशर हैं, जिसने श्रीमंत की आड़ में अपने तमाम कारोबार खोल लिये हैं। लोगों से सुपर श्रीमंत पाराशर का घमंड वाला व्यवहार आज भी दुखती रग को छेड़ देता है। उन्होंने (सुपर श्रीमंत ने ) अपने क्रेशर खदान जरूर पार्टनरशिप में डाल दिये हैं, लेकिन सुपर श्रीमंत ने श्रीमंत का सबसे बडा नुकसान जरूर करा दिया। सुपर श्रीमंत का श्रीमंत की हार के बाद भी इतना जलवा है कि वह शिवपुरी, गुना और अशोक नगर के डीएम को सरकारी कार्यों के लिये निर्देशित करते रहते हैं और उनके कामों मेंं अडग़ा भी लगाते हैं। 
ऐसा पहली बार हुआ है कि इस लोकसभा में श्रीमंत स्वयं या उनका कोई प्रतिनिधि भी चुनकर नहीं पहुंचा। एक प्रतिनिधि पहुंचा भी , लेकिन वह भी श्रीमंत को हराकर ही पहुंचा। 
दरबारीलाल...........