BREAKING!
  • प्रजापिता ब्रह्मा बाबा की 143 वीं जयंती को आध्यात्मिक सशक्तिकरण दिवस के रूप में मनाया गया
  • मक्का उत्पादन में छिन्दवाड़ा को मिलेगी अंतर्राष्ट्रीय पहचान, कमल नाथ ने किया कॉर्न फेस्टिवल का शुभारंभ
  • ब्राह्मण महासभा ने की जन चेतना यात्रा का शुभारंभ
  • पंजाबी सेवा समिति ने किया रक्तदान
  • सिर्फ जीत भावना नहीं खेल भावना के साथ खेलें-कुलदीप सिंह
  • युवाओं के लिये विद्यालयीन शिक्षा के साथ प्रेक्टिकल ज्ञान भी जरूरी : कमल नाथ
  • जीएसटी में पंजीयन के लिये करदाताओं के वार्षिक टर्नओव्हर की सीमा 40 लाख हुई
  • सावरकर के बहाने मायावती का कांग्रेस पर हमला, कहा- शिवसेना पर स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस
  • झारखंड चुनाव: कांग्रेस पर बरसे पीएम मोदी, बोले- नागरिकता कानून का फैसला हजार फीसदी सच्चा
  • पुलिस के प्रति संवेदनशील और अपराधियों के लिये सख्त सरकार

Sandhyadesh

आज की खबर

दो पाटों के बीच पिसते भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी

01-Aug-19 258
Sandhyadesh


ग्वालियर में विकास कार्यों के श्रेय को लेकर गत दिनों आरओबी पर जो हंगामा हुआ उसे तथा अन्य विकास कार्यों को लेकर अब जिला प्रशासन के अधिकारी दो पाटों में फंस कर पिस रहे हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी वैसे तो केन्द्र के अधीन रहते हैं , लेकिन राज्य में वह मुख्यमंत्री के अधीन रहते हैं इसी के चलते वह मंत्रियों की सुनते हैं और कांग्रेस के मंत्री उनपर अवैध दबाब डालकर उन्हें अपने तरीके से काम करवाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। 
हाल ही में मध्यप्रदेश में राज्य में भाजपा की सरकार जाने और कांग्रेस की आने के बाद से जिला प्रशासन के अधिकारी परेशान हो गये हैं। पहले तो मुख्यमंत्री द्वारा लगातार तबादले कर भारतीय प्रशासन सेवा के  अधिकारियों को इधर से उधर किया गया। इसके बाद से भाजपा के शासन में शुरू कराये गये कार्य जो सरकार के बदलने के बाद कांग्रेस के हत्थे चढ़ गये उनके लोकार्पण को लेकर मंत्रियों द्वारा लगातार दबाब बनाया जा रहा है। वहीं मंत्रियों के अनुसार नहीं चलने पर उनके तबादले की धमकी तक दी जा रही  है। इसे लेकर प्रशासन के अधिकारी परेशान हैं। और कहावत की तरह कि दो पाटों में फंस गये हैं वास्तव में दो पाटों में पिसे हैं। अधिकारी यदि राज्य के मंत्री की नहीं मानते हैं तो वह तबादले की धमकी देकर उन्हें प्रताडित कर रहे हैं और केन्द्र के मंत्री की नहीं मानते हैं तो उन्हें आगे बढने का मौका नहीं मिलेगा। अब देखना  है कि अधिकारी किस प्रकार से दोनों सरकारों के मंत्रियों के बीच में समन्वय बैठाकर कार्य करेंगे या फिर यूं ही दो पाटों में पिसते रहेंगे इसका इंतजार रहेगा। 
दरबारीलाल............................

2019-12-15aaj