BREAKING!
  • पुलिस के प्रति संवेदनशील और अपराधियों के लिये सख्त सरकार
  • कलेक्टर एवं नगर निगम आयुक्त ने किया गौशाला का निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशा निर्देश
  • वर्ष-2019 में अंतिम नेशनल लोक अदालत का सफल आयोजन
  • बेहट में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों का जिला पंचायत सीईओ ने लिया जायजा
  • प्रजापिता ब्रह्मा बाबा का 143वीं जयंती समारोह 15 को
  • ना तो कर्जा माफ हुआ, ना ही बेरोजगारों को भत्ता मिला, न ही मुख्यमंत्री साफ हुआ -देवेश शर्मा
  • जागरूकता की कमी से होती है महिलाओं में रक्त अल्पता :डॉ. ममता शुक्ला
  • लायनेस क्लब का 16वां तीन दिवसीय समागम 31 जनवरी 2020 से ग्वालियर में
  • पडाव पुल के पास अवैध निर्माण को प्रशासन ने ढहाया
  • मोदी ने गंगा में नौकायन कर सफाई का निरीक्षण किया

Sandhyadesh

आज की खबर

व्यापार मेला को लेकर,मेला प्राधिकरण, जिला प्रशासन की बैठक आयोजित

02-Dec-19 27
Sandhyadesh


ग्वालियर । ग्वालियर का ऐतिहासिक व्यापार मेला इस वर्ष भी पूर्ण भव्यता के साथ आयोजित होगा। मेले में सैलानियों के आकर्षण के लिए विभिन्न प्रकार के आयोजन भी किए जायेंगे। मेला प्राधिकरण सैलानियों की सुरक्षा के लिए इस वर्ष मेले में 160 सीसीटीव्ही कैमरे स्थापित करेगा। जिसकी मॉनीटरिंग निरंतर की जायेगी। मेले में ठेले और जमीन पर रखकर छोटा व्यवसाय करने वालों के लिए अलग से स्थान बनाया जायेगा। 
ग्वालियर व्यापार मेले के आयोजन के संबंध में सोमवार को संभागीय आयुक्त एम बी ओझा की अध्यक्षता में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर निगम एवं मेला प्राधिकरण के पदाधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में मेले की व्यवस्थाओं के संबंध में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। बैठक में विधायक मुन्नालाल गोयल, मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष प्रशांत गंगवाल, कलेक्टर अनुराग चौधरी, पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन, नगर निगम आयुक्त संदीप माकिन, मेला प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रवीण अग्रवाल, एडीएम टी एन सिंह, मेला प्राधिकरण के संचालक शील खत्री, सुधीर मंडेलिया, नवीन परांडे, महमूद भाई चैनवाले सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 
संभागीय आयुक्त एम बी ओझा ने कहा कि ग्वालियर का ऐतिहासिक मेला न केवल प्रदेश में बल्कि देश भर में विख्यात है। मेला अवधि में बड़ी संख्या में सैलानी मेले में आते हैं। मेले में आने वाले सैलानियों को किसी प्रकार की परेशानी न हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। इसके साथ ही देश भर से मेले में व्यवसाय करने आने वाले व्यापारियो को भी हर प्रकार की सुविधाएं प्राधिकरण की ओर से मिलें, इस पर विशेष ध्यान दिया जाए। मेले में अग्नि सुरक्षा के लिए पुख्ता प्रबंध किए जाएं। 
संभागीय आयुक्त ओझा ने कहा कि मेले में लगने वाले झूलों की सुरक्षा की दृष्टि से पूरी जाँच करने के उपरांत ही उनका संचालन प्रारंभ कराया जाए। मेला अवधि में स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाए। पॉलीथिन के उपयोग पर लगी रोक के दृष्टिगत मेले में पॉलीथिन का उपयोग न हो यह भी सुनिश्चित किया जाए। मेले में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए ताकि अधिक से अधिक लोग उसका आनंद ले सकें। 
संभागीय आयुक्त एम बी ओझा ने सभी विभागीय अधिकारियों को भी निर्देशित किया है कि वे अपने-अपने विभाग की प्रदर्शनियां 25 दिसम्बर से पूर्व मेले में लगा लें। नगर निगम की ओर से भी मेले में जो भी व्यवस्थायें की जाती हैं उन्हें समय रहते पूर्ण किया जाए। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस अधीक्षक हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित करें। 
विधायक मुन्नालाल गोयल ने कहा कि ग्वालियर व्यापार मेला अपनी पूर्ण गरिमा और भव्यता के साथ आयोजित हो। मेला प्राधिकरण, प्रशासन, नगर निगम और पुलिस से आवश्यक सहयोग लेकर सैलानियों के साथ-साथ व्यापारियों के लिए भी आवश्यक व्यवस्थायें समय रहते पूर्ण करें। मेले में आने वाले सैलानियों के लिए आवागमन, पार्किंग की भी बेहतर व्यस्थायें सुनिश्चित की जाएं। 
कलेक्टर अनुराग चौधरी ने कहा कि मेला अवधि में जिला प्रशासन की ओर से सभी आवश्यक सुविधाएं और सहयोग प्रदान किया जायेगा। जिला प्रशासन की ओर से एडीएम श्री टी एन सिंह प्रभारी अधिकारी रहेंगे। कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने कहा कि मेले में बड़ी संख्या में मातायें, बहनें आती हैं, उनके लिए प्राधिकरण विशेष व्यवस्थायें सुनिश्चित करें। माताओं को अपने बच्चों को दूध पिलाने के लिए भी मेले में तीन-चार केन्द्र स्थापित किए जाएं। मेले में बच्चों के गुम होने की सूचनाएं भी मिलती हैं, इनके लिये भी कंट्रोल रूम गठित कर व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। 
मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष प्रशांत गंगवाल ने बताया कि प्राधिकरण की ओर से मेले की व्यवस्थाओं के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। इस वर्ष मेला भव्यता के साथ आयोजित हो, इसके लिए प्राधिकरण सभी प्रयास कर रहा है। प्राधिकरण की ओर से इस वर्ष मेले में सर्कस भी लगाया जा रहा है। अच्छे सांस्कृतिक कार्यक्रम और दंगल का आयोजन भी मेला प्राधिकरण करायेगा। प्राधिकरण को मेला अवधि में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और नगर निगम से आवश्यक सहयोग अपेक्षित है। 
पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने कहा कि मेले में सुरक्षा की दृष्टि से हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी पुलिस विभाग की ओर से पुख्ता प्रबंध किए जायेंगे। रविवार और मंगलवार को घोड़े पर बल मार्च करे, इसकी व्यवस्थाएं भी पुलिस बटालियन के माध्यम से कराने का प्रयास किया जायेगा। मेले की छत्रियों पर भी अस्थाई पुलिस चौकी बनाकर सुरक्षा के प्रबंध किए जायेंगे। 

2019-12-15aaj