BREAKING!
  • पुलिस के प्रति संवेदनशील और अपराधियों के लिये सख्त सरकार
  • कलेक्टर एवं नगर निगम आयुक्त ने किया गौशाला का निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशा निर्देश
  • वर्ष-2019 में अंतिम नेशनल लोक अदालत का सफल आयोजन
  • बेहट में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों का जिला पंचायत सीईओ ने लिया जायजा
  • प्रजापिता ब्रह्मा बाबा का 143वीं जयंती समारोह 15 को
  • ना तो कर्जा माफ हुआ, ना ही बेरोजगारों को भत्ता मिला, न ही मुख्यमंत्री साफ हुआ -देवेश शर्मा
  • जागरूकता की कमी से होती है महिलाओं में रक्त अल्पता :डॉ. ममता शुक्ला
  • लायनेस क्लब का 16वां तीन दिवसीय समागम 31 जनवरी 2020 से ग्वालियर में
  • पडाव पुल के पास अवैध निर्माण को प्रशासन ने ढहाया
  • मोदी ने गंगा में नौकायन कर सफाई का निरीक्षण किया

Sandhyadesh

आज की खबर

शिक्षा विभाग ने 16 शिक्षकों को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति

01-Dec-19 27
Sandhyadesh

   भोपाल। शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला लेते हुए खराब प्रदर्शन करने वाले 16 शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी के मुताबिक यह पहली बार है, जब खराब प्रदर्शन के आधार पर शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई है। खराब प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को बाहर करने के लिए 20-25 का फॉर्मूला लागू किया गया, जिसमें 20 वर्ष की सेवा अवधि पूरी करने वाले या 50 वर्ष की उम्र पार करने वाले शामिल हैं। इस फॉर्मूले के तहत आने वाले दो अन्य शिक्षकों के नियुक्ति संबंधी दस्तावेज न मिलने के कारण छानबीन समिति उनकी विभागीय जांच कर रही है। वहीं 20-50 के फॉर्मूले में फिट ना बैठने वाले 20 शिक्षकों के खिलाफ भी विभागीय जांच शुरू कर दी गई है। 20 अन्य शिक्षक जो आदिवासी विभाग के थे, उन पर कार्रवाई करने के लिए विभाग से सिफारिश की है।
 काम में बेहतर प्रदर्शन न करने वाले अधिकारी-कर्मचारी हटाये जायेंगे
मध्य प्रदेश सरकार द्वारा सभी विभागों को निर्देश दिए गए हैं कि सरकारी काम में बेहतर प्रदर्शन न करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को हटाया जाना चाहिए। इसके लिए 20-50 का फॉमूर्ला लागू किया गया, जिसमें 20 वर्ष सरकारी नौकरी पूरी कर चुके या 50 वर्ष की उम्र पूरी के अधिकारियों और कर्मचारियों के काम की समीक्षा की जाएगी। जो इस फॉर्मूले के तहत काम में फिट नहीं बैठेगा उसे हटा दिया जाएगा।

2019-12-15aaj