BREAKING!
  • पुलिस के प्रति संवेदनशील और अपराधियों के लिये सख्त सरकार
  • कलेक्टर एवं नगर निगम आयुक्त ने किया गौशाला का निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशा निर्देश
  • वर्ष-2019 में अंतिम नेशनल लोक अदालत का सफल आयोजन
  • बेहट में आयोजित होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों का जिला पंचायत सीईओ ने लिया जायजा
  • प्रजापिता ब्रह्मा बाबा का 143वीं जयंती समारोह 15 को
  • ना तो कर्जा माफ हुआ, ना ही बेरोजगारों को भत्ता मिला, न ही मुख्यमंत्री साफ हुआ -देवेश शर्मा
  • जागरूकता की कमी से होती है महिलाओं में रक्त अल्पता :डॉ. ममता शुक्ला
  • लायनेस क्लब का 16वां तीन दिवसीय समागम 31 जनवरी 2020 से ग्वालियर में
  • पडाव पुल के पास अवैध निर्माण को प्रशासन ने ढहाया
  • मोदी ने गंगा में नौकायन कर सफाई का निरीक्षण किया

Sandhyadesh

आज की खबर

ग्वालियर में जाम का कारण बनी नैरोगेज क्रासिंग के चौड़ीकरण का काम शुरू

01-Dec-19 308
Sandhyadesh

(विनय कुमार अग्रवाल)
ग्वालियर। ग्वालियर शहर में विभिन्न मार्गों पर नैरोगेज क्रासिंग से आये दिन लगने वाले जाम से अब जल्द ही मुक्ति मिलने वाली हैं। इन क्रासिंग पर रेलवे ने कार्य शुरू कर दिया है अब यह क्रासिंग लिफ्टिंग बैरियर में बदल जायेंगी और मौजूदा चौड़ाई से दोगुनी 16 मीटर में बदल जायेंगी। सबसे प्रमुख बात यह है कि इन क्रासिंग पर समस्या बना अतिक्रमण भी हटाये जाने की तैयारी है।
गांधी नगर, लक्ष्मणपुरा, मरीमाता और कटीघाटी पर रेलवे क्रासिंग से आये दिन होने वाले जाम की समस्या को बीते अगस्त माह में सत्ता सुधार ने प्रमुखता से उठाया था और जनहित में मंडल रेल प्रबंधक व उत्तर रेलवे महाप्रबंधक के भी संज्ञान में यह जानकारी लाई थी कि इन क्रासिंग पर आये दिन जाम की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है और विशेषकर पड़ाव, गांधी नगर व लक्ष्मणपुरा की क्रासिंग के जाम से प्रतिदिन सैकड़ों लोगों की ट्रेनें छूट रही है। सबसे ज्यादा जाम सायं इंटरसिटी व शताब्दी के समय हो रहा है। इसके बाद रेलवे प्रशासन ने नैरोगेज सेक्शन की चारों क्रासिंग गांधी नगर, लक्ष्मणपुरा, मरीमाता, रवि नगर व कटीघाटी शिंदे की छावनी का सर्वे कराकर इनको चैड़ा किये जाने की संभावनायें तलाशी थी। सर्वे के बाद इनको चैड़ा किये जाने के टेंडर जारी कर इनका काम भी शुरू कर दिया गया है। क्रासिंग चौड़ीकरण का काम झांसी की युगराज कंस्ट्रक्शन कंपनी कर रही हैं। 
अब यह रेल चारों रेल क्रासिंग के फाटक चौड़ीकरण के बाद लिफ्टिंग बैरियर में बदल जायेंगे। अब इनकी चौड़ाई 8-9 मीटर से बढ़ाकर 16 मीटर की जा रही है। कुल मिलाकर सबसे खास बात यह है कि चारों क्रासिंग पर चार-चार लिफ्टिंग बैरियर लगाये जा रहे है, जो 8-8 मीटर के होंगे। इसमे बीच में डिवाइडर दिया जा रहा हैं, ताकि आने जाने वाले वाहन अपने ही निर्धारित भाग में चले और जाम की स्थिति न पैदा हो। नैरोगेज सेक्शन के इन नये लिफ्टिंग बैरियर बनने पर लगभग 80 लाख रूपये की लागत आने की संभावना है और दिसंबर अंत तक उन्हें आम यातायात के लिए खोल दिया जायेगा। चारों क्रासिंग के लिफ्टिंग बैरियर को रेलवे गेटमैन हाथ के लीवर से संचालित करेंगे। हालांकि इसमे इलैक्ट्रोनिक फंक्शन भी दिया जायेगा। यहां यह बता दें कि इन रेलवे क्रासिंग से ग्वालियर से श्योपुर, सबलगढ़ और श्योपुर, सबलगढ़ से ग्वालियर के लिए लगाया 3-3 ट्रेनें नियमित निकलती है, जिसमें समय समय पर यहां जाम की विकराल समस्या बनी रहती हैं।
अब क्रासिंग पर लाइट
अभी तक इन चारों रेलवे क्रासिंग पर लाल और पीली बत्ती नहीं रहती थी। केवल सिग्नल देखकर ही गेटमैन ट्रेन निकालने के लिए गेट बंद करता था। अब इन क्राॅसिंग पर रेलवे लाल और पीली बत्ती का इलैक्ट्रोनिक पोल भी लगा रहा हैं, जिससे वाहन चालकों को भी दूर से पता चल सकेगा कि बत्ती लाल है, तो फाटक बंद है और बत्ती पीली हैं तो ट्रेफिक निकल रहा है। 
अतिक्रमण हटाने की तैयारी
इन नैरोगेज क्रासिंग पर बने अतिक्रमण को जल्द ही हटाने की तैयारी है। यहां लगे हाथ ठेले, खोमचे व अस्थाई दुकानों को रेलवे जिला व निगम प्रशासन से कहकर हटवाने की तैयारी में है। हालांकि इस संदर्भ में रेल अधिकारियों का कहना है कि हम क्रासिंग के चौड़ीकरण का कार्य कर रहे हैं। इसके बाद उसके मिलान हेतु लिफ्टिंग बैरियर के हिसाब से नगर निगम सड़क बनायेगा। हमने नगर निगम अधिकारियों को सारी जानकारी दे दी हैं। 
इनका कहना है 
ग्वालियर की इन नैरोगेज क्रासिंग पर जाम की समस्या काफी विकराल रूप धारण कर गई थी। लेकिन अब नई चौड़ी क्रासिंग बनने से सभी क्रासिंग मार्गों पर वाहन चालकों को राहत मिलेगी। अब लोग समय पर अपने गंतव्य पर पहुंच सकेंगे। इनका काम जल्द ही पूरा करने के निर्देश भी दिये गये हैं।
मनोज कुमार सिंह
जनसंपर्क अधिकारी 
उत्तर मध्य रेलवे
झांसी मंडल

(साभार सत्ता सुधार) 

2019-12-15aaj