कारगिल दिवस पर वायुसेना ने दिखाए करतब

ग्वालियर। कारगिल विजय के बीस वर्ष पूरे होने पर आज भारतीय वायुसेना के विमानों ने आज अदम्य साहस को दर्शाते हुए उड़ान भरी और टाटा फार्मेशन बनाते हुए कारगिल विजय का उत्सव मनाया। भारतीय वायुसेना के प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोबा इस मौके पर मौजूद थे।
भारतीय वायुसेना के मिराज २००० सीरीज के अपग्रेड लडाकू विमानों के साथ ही एसयू ३० सुखोई विमानों ने भी उड़ान भरकर जहां हवा में करतब दिखाए वहीं उन्होने एक पहाडी की प्रकृति बनाकर उस पर वायुसेना के विमानों द्वारा कैसे कब्जा करते हुए दुश्मन को मार भगाया उसका भी चित्रण किया। कारगिल विजय दिवस के आज बीस वर्ष पूरे होने पर भारतीय वायुसेना के विमानों ने विजय दिवस की याद में एक कार्यक्रम आयोजित किया। इस अवसर पर सेन्ट्रल एरिया कमांड के प्रमुख एयरमार्शल राजेश कुमार और वेस्टर्न एरिया कमांड के प्रमुख एयर मार्शल आर नाम्बियार ने भी उत्साह पूर्वक विमानों से उड़ान भरकर करतब दिखाए। इस असवर पर महाराजपुरा वायुसेना स्टेशन पर एक पहाडी की आकृति बनाई गई थी। जिसे टायगर हिल के रूप में बताया गया था जहां पर भारत के लडाकू विमान मिराज ने लेजर गाइडेड बम को दागते हुए दुश्मन के छक्के छुडा दिये थे। इस अवसर पर टाटा फार्मेशन बनाते हुए पांच विमानों ने एक के बाद एक उड़ान भरी और बाद में पांचों विमान फार्मेशन बनाते हुए पहाडी के ऊपर से निकल गये। कार्यक्रम के दौरान सुखोई ३० विमान की क्षमताओं का भी प्रदर्शन किया गया। सुखोई विमान छोटे रनवे से उड़ान भर सकता है वहीं छोटे रनवे पर पैराशूट की सहायता से उतरकर रूक भी सकता है का भी प्रदर्शन किया गया। विमान को उल्टा, तिरछा चलाकर दुश्मन की आंखों में कैसे धूल झोंक सकता है का भी प्रदर्शन किया गया। इसी के साथ वायुसेना ने मिग , उसका आधुनिक स्वरूप बाइजन, मिराज पुराना तथा उसका अपग्रेड रूप , सुखोई मिग २९ आदि लड़ाकू विमानों को प्रदर्शित किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *