वरिष्ठ नागरिकों के नाम पर नेतागिरी केवल दिखावा, जेपी जैन की कोई सुध लेने वाला नहीं

वरिष्ठ नागरिकों की शहर में हालत खराब है, कोई देखने सुनने वाला नहीं, वरिष्ठ नागरिक सेवा संस्थान के पदाधिकारी भी केवल फोटो खिंचाने व शहर में अपनी राजनैतिक दुकानें चमकाने का कार्य कर रहे हैं। बीती रात एक बुजुर्ग को उसके ही बेटे ने घर से निकाल दिया, लेकिन उनकी मदद अभी तक किसी ने नहीं की। आज पीडि़त बुजुर्ग न्यायालय की शरण में जाने का मन बन रहे हैं। शहर में वरिष्ठ नागरिकों के नाम पर अपनी दुकानें चमकाने वाले उसके पदाधिकारियों ने भी अब पीडित रिटायर्ड ज्वाइंट डायरेक्टर जेपी जैन के फोन तक उठाने बंद कर दिये हैं, इससे स्पष्ट है कि वह लोग कहीं न कहीं उनके बेटे से प्रभावित है।
जानकारी के मुताबिक शिक्षा विभाग में ज्वाइंट डायरेक्टर रहे जेपी जैन माधव नगर में रहते हैं। और मकान उन्हीं का है , लेकिन बीती रात उनके बेटे शलभ जैन ने उन्हें पारिवारिक विवाद के चलते घर से निकाल दिया। रात को वृद्ध जेपी जैन अपनी पीडा लेकर झांसी रोड थाने भी पहुंचे लेकिन उन्हें कोई मदद नहीं मिली।
दुखी पीडित जैन आज पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन के पास पहुंचे अपनी व्यथा सुनाई, तब पुलिस अधीक्षक ने थाना झांसी रोड टीआई दामोदर गुप्ता को निर्देश भी दिये। लेकिन अभी तक बुजुर्ग जेपी जैन की एफआईआर नहीं लिखी गई है।
इधर यह बताया जाता है कि जेपी जैन ने अपनी पीडा वरिष्ठ नागरिक सेवा संस्थान चलाने वाले उसके प्रमुख को भी बताई , लेकिन उन्होंने यह कहकर फोन काट दिया कि में बाहर हूं। अब वह दुखियारे जेपी जैन के फोन भी नहीं उठा रहे हैं। इससे वरिष्ठ नागरिक सेवा संस्थान के पदाधिकारियों की तमाम दावों की पोल खुल गई है कि संस्थान हमेशा बुजुर्गों की भलाई के लिये काम करता है। जेपी जैन प्रसिद्ध भजन गायिका मनीषा जैन के पिता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *